केंद्र सरकार का सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा, 'बढ़ रहे कोरोना केस, बड़ी संख्‍या में मेकशिफ्ट अस्‍पताल बनाने होंगे'

केंद्र ने कहा कि कोरोना से लड़ाई में जुटे डॉक्टरों व हेल्थ केयर स्टॉफ के लिए विशेषक्षों ने समय समय पर कदम उठाए हैं और उनके लिए गाइडलाइन और प्रोटोकॉल तैयार किया है. सरकार की ओर से 99.34 लाख पीपीई किट वितरित किए हैं जबकि1 जून तक123.08 लाख N95 मॉस्‍क वितरित किए गए हैं.

केंद्र सरकार का सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा, 'बढ़ रहे कोरोना केस, बड़ी संख्‍या में मेकशिफ्ट अस्‍पताल बनाने होंगे'

कोरोना महामारी को लेकर केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दिया है (प्रतीकात्‍मक फोटो)

खास बातें

  • दो लाख से ऊपर पहुंचे देश में कोरोना केस
  • डॉ. आरुषि जैन ने दाखिल की है यह याचिका
  • कोर्ट ने याचिकाकर्ता से हलफनामे पर जवाब मांगा
नई दिल्ली:

Covid-19 Pandemic: कोरोना वायरस की महामारी को लेकर केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में हलफनामा दाखिल किया है. इसमें सरकार ने बताया कि कोरोना संक्रमण के मामलों (Coronavirus Cases) की संख्या लगातार बढ़ रही है और ऐसे में बड़ी संख्या में मेक-शिफ्ट अस्पतालों की स्थापना करनी होगी.निकट भविष्य में किसी भी समय मौजूदा अस्पतालों के अलावा, COVID-19 मरीजों के लिए बड़ी संख्या में अस्थायी मेक-शिफ्ट अस्पतालों का निर्माण करना होगा ताकि उनकी उचित चिकित्सा देखभाल और उपचार हो सके. केंद्र सरकार ने हलफनामे में कहा है कि संकट की इस घड़ी में तेजी से बढ़ रहे रोगियों के 'लोड' को वहन करने के लिए स्वास्थ्य देखभाल कार्य बल का संरक्षण समय की आवश्यकता है. कोरोना रोगियों को सर्वोत्तम चिकित्सा देखभाल प्रदान करने के लिए एक उपयुक्‍त बुनियादी ढांचे का सफलतापूर्वक निर्माण करने और मानव संसाधन मुद्दे पर केंद्र पर्याप्त कदम उठाएगा.डॉ. आरुषि जैन ने यह याचिका दाखिल की है.  

केंद्र ने कहा कि कोरोना से लड़ाई में जुटे डॉक्टरों व हेल्थ केयर स्टॉफ के लिए विशेषक्षों ने समय समय पर कदम उठाए हैं और उनके लिए गाइडलाइन और प्रोटोकॉल तैयार किया है. सरकार की ओर से 99.34 लाख पीपीई किट वितरित किए हैं जबकि1 जून तक123.08 लाख N95 मॉस्‍क वितरित किए गए हैं. केंद्र ने उपयुक्‍त पीपीई किट का उपयोग करने वाले हेल्थ केयरकर्मी किसी भी संभावित जोखिम के खिलाफ पर्याप्त रूप से सुरक्षित हैं, उनके परिवार और बच्चों के लिए कोई अतिरिक्त जोखिम नहीं है.

सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता को केंद्र के हलफनामे पर जवाब देने को कहा है. कोरोना के इलाज में लगे डॉक्टरों को क्वारंटाइन करने के लिए बेहतर इंतज़ाम की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से एक हफ्ते में जवाब मांगा था. डॉ. आरुषि जैन ने यह याचिका दाखिल की है. याचिका में कहा गया है कई जगह 2 डॉक्टरों को एक कमरे में रखा गया है और वहां साझा टॉयलेट है, इससे संक्रमण का खतरा है. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हॉस्पिटल के नज़दीक होटल या भवन में बंदोबस्त किया जाए.

VIDEO: मजदूरों के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, केंद्र सरकार को जारी किया नोटिस

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com