LNJP अस्‍पताल का क्‍वारंटाइन हुए मेडिकल स्‍टॉफ को आदेश, 21 मई तक होटल खाली करें, नई गाइडलाइंस का दिया हवाला

दिल्ली सरकार ने फैसला किया था कि जो डॉक्टर, नर्स या पैरामेडिकल स्टाफ कोरोना के इलाज में लगे हैं वह 14 दिन लगातार काम करेंगे जिसके बाद उनको 14 दिन आराम मिलेगा.14 दिन आराम का मतलब यह था कि उनको एक तरह से क्वारंटाइन किया जाए.

LNJP अस्‍पताल का क्‍वारंटाइन हुए मेडिकल स्‍टॉफ को आदेश, 21 मई तक होटल खाली करें, नई गाइडलाइंस का दिया हवाला

LNJP दिल्‍ली के कोरोना वायरस के प्रमुख अस्‍पतालों में से है

नई दिल्‍ली:

राजधानी दिल्ली में कोरोना के सबसे बड़े अस्पताल लोकनायक जयप्रकाश (LNJP) अस्पताल ने क्वारंटाइन हुए अस्पताल के सभी स्टाफ को होटल या धर्मशाला 21 मई को दोपहर 12 बजे तक खाली करने के आदेश जारी किए है. अस्‍पताल की ओर से जारी किए गए आदेश में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के गाइडलाइंस का हवाला दिया गया है.LNJP अस्‍पताल के मेडिकल डायरेक्टर सुरेश कुमार द्वारा जारी आदेश में लिखा गया है कि 21 मई के बाद अस्पताल द्वारा किसी भी तरह खर्चा नही दिया जाएगा और गेस्ट को खुद ही खर्चा वहन करना होगा. दरअसल दिल्ली सरकार ने फैसला किया था कि जो डॉक्टर, नर्स या पैरामेडिकल स्टाफ कोरोना के इलाज में लगे हैं वह 14 दिन लगातार काम करेंगे जिसके बाद उनको 14 दिन आराम मिलेगा.14 दिन आराम का मतलब यह था कि उनको एक तरह से क्वारंटाइन किया जाए. इससे अगर इन्‍हें किसी तरह का वायरस संक्रमण होता भी है तो उनके परिवार को नुकसान नहीं होगा. यह भी फैसला किया गया था कि अस्‍पताल ऐसे सभी लोगों के लिए होटल/ धर्मशाला या अन्य किसी जगह में रुकने की व्यवस्था करेगा और सारा खर्चा अस्पताल उठाएगा लेकिन लेकिन अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों का हवाला मेडिकल स्टाफ को होटल या धर्मशाला के कमरे खाली करने का फरमान सुनाया गया है.

अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर के आदेश के बाद रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने इसका विरोध किया है. रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को इस मामले में चिट्ठी लिखी है, इसमें कहा गया है 'कोरोना वायरस 2-14 तक अपना असर दिखा सकता है. PPE किट पहनने के बाद भी गैरलक्षण वाले हेल्थकेयर वर्कर कई मामलों में कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. ड्यूटी के बाद 14 दिन क्वॉरेंटाइन, सभी स्टाफ़ की टेस्टिंग चाहे वह गैर लक्षण वाला हो या PPE पहनने वाला, ज़रूरी है. इस व्‍यवस्‍था को हटाने से वायरस के डॉक्टर, उनके परिवार, मरीज और कम्युनिटी में फैलने का खतरा बढ़ेगा. इसलिए हाल ही में जारी की गई गाइडलाइन में संशोधन कर और देश के लिए कोरोना वारियर को राहत दें.

यह है केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन...

केंद्र सरकार की हेल्थ केयर वर्कर पर 15 मई की नई गाइडलाइन कहती है कि 'केवल हाई रिस्क कॉन्टेक्ट्स वाले ऐसे हेल्थ केयर वर्कर ही क्वॉरंटाइन होंगे जिन्होंने बिना प्रॉपर PPE के कोरोना मरीजों को संभाला हो या जिनमें  लक्षण दिखाई देंगे.' केंद्र सरकार की इसी गाइडलाइन को आधार बनाते हुए दिल्ली की स्वास्थ्य सचिव पद्मिनी सिंगला ने भी आदेश जारी किए थे. स्वास्थ्य सचिव के आदेश के बाद लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर ने भी आदेश जारी कर दिए हैं.

VIDEO: Red Zone में कुछ इस तरह से आगे बढ़ रही है जिंदगी

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com