Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

51 उद्यमियों ने PM मोदी से कहा, कोरोनावायरस नहीं करता भेदभाव, रोकथाम के लिए ज़रूरी है सख्त बंदी

10 स्लाइड के पावरप्वाइंट प्रेजेंटेशन को बनाने में स्नैपडील के कुणाल बहल, रेडबस के फानिंद्रा सामा, मैपी इंडिया के रोहण वर्जमा सहित 50 उद्यमी शामिल हैं.

51 उद्यमियों ने PM मोदी से कहा, कोरोनावायरस नहीं करता भेदभाव, रोकथाम के लिए ज़रूरी है सख्त बंदी

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

उद्योगपतियों और स्टार्टअप चलाने वाले लोगों के एक समूह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है कि कोरोनावायरस के फैलाव को रोकने के लिए सख्ती से कदम उठाए और सभी प्रमुख शहरों में धारा 144 लागू कर पूरी तरह से बंदी कर दें.

मंगलवार को अर्बन क्लैप के सह-संस्थापक अभिराज सिंह भाल ने कोरोना पर पावरप्वाइंट प्रेजेंटेशन ट्वीट किया, जिसमें बताया गया है कि जिन देशों ने जल्द और सख्ती से कदम उठाए हैं, उन्होंने इस बीमारी को फैलने से रोकने में कामयाबी पाई है. इन देशों में दक्षिण कोरिया, सिंगापुर और जापान का ज़िक्र किया गया है. वहीं जो इस बीमारी से जूझ रहे हैं, उनमें इटली, ईरान और अमेरिका जैसे देशों ने इंतजार किया और इसका रूप भयानक हो गया.

अपने प्रेजेंटेशन में भाल ने कहा कि यह वायरस राष्ट्रीयता के आधार पर भेदभाव नहीं करता, बल्कि राष्ट्र बड़ा हो या छोटा, इस वायरस से लड़ने के लिए सबसे महत्वपूर्ण है एक ठोस और मजबूत कदम. 20 मार्च से महत्वपूर्ण शहरों में लॉकडाउन और धारा 144 लगना बेहद जरूरी है. उन्होंने कहा, लॉकडाउन और धारा 144 लागू करने से मौतों को पांच गुना कम किया जा सकता है (यानी 10,000 लोगों की जान बचाई जा सकती है).

बता दें कि 10 स्लाइड के पावरप्वाइंट प्रेजेंटेशन को बनाने में स्नैपडील के कुणाल बहल, रेडबस के फानिंद्रा सामा, मैपी इंडिया के रोहण वर्जमा सहित 50 उद्यमी शामिल हैं. आगे कहते हैं कि भारत के कई राज्यों में स्कूल, कॉलेज, सिनेमाहॉल, मॉल बंद करवाकर सरकार ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है.