कोलकाता में एक वायलिन वादक, मॉडल और पर्वतारोही ने बनाई COVID हेल्पलाइन टीम

इस पहल की अगुवाई करने वाले सीनियर प्रोफेसर ऑफ मेडिसिन डॉ अभिजीत चौधरी और डॉ अरजीत घोष हैं, जो खुद पब्लिक हेल्थ एक्टिविस्ट हैं. ये खुद कोरोनोवायरस संक्रमण से बचे हैं और इन्होंने अपने गंभीर रोगियों के लिए प्लाज्मा भी दान किया है. 

कोलकाता में एक वायलिन वादक, मॉडल और पर्वतारोही ने बनाई COVID हेल्पलाइन टीम

COVID-19 से ठीक हुए वायलिन वादक पल्लब बनर्जी ने CCN हेल्पलाइन के लिए थीम संगीत तैयार किया है.

कोलकाता:

एक प्रतिष्ठित वायलिन वादक, एक पर्वतारोही जिन्होंने एवरेस्ट को फतह किया है और एक मॉडल है जो सब्यसाची मुखर्जी, रोहित बल और अन्य की पसंद के लिए रैंप पर चले हैं, इन सब में वैसे तो बहुत कम चीजे कॉमन होगी. लेकिन कोलकाता में तीनों एक चीज का साझा अनुभव किया है, इन सभी घातक कोरोनावायरस का अनुभव किया है जिससे या तो ये संक्रमित हुए हैं या फिर इनके परिजनों को ये संक्रमण लगा है. इस साझा अनुभव ने अब उन्हें कुछ डॉक्टरों के साथ मिलकर COVID केयर नेटवर्क (CCN) लॉन्च करने का लक्ष्य दिया है, जिसका उद्देश्य छूत से संक्रमित लोगों का मार्गदर्शन और परामर्श करना है.

जब मॉडल मधाबिलता मित्रा की मां इस वायरस की चपेट में आईं तो वो सन्न रह गईं. उन्होंने कहा, "मैं चीजों से अनजान थी - वायरस से कैसे निपटना है, कहां जाना है, कहां उन्हें भर्ती करना है. यह मेरे और मेरी मां और परिवार दोनों के लिए बहुत तनावपूर्ण था," एक अस्पताल में अपनी मा को भर्ती करवाने और इलाज के लिए कड़ी मशक्कत के बाद, मित्रा को कलकत्ता मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में एक बेड मिला. मधाबिलता मित्रा की मां अब ठीक हैं और 22 दिनों के बाद अस्पताल से घर लौटीं है.

मित्रा कहती हैं, "लेकिन मैं नहीं चाहती जिस परिस्थिति का मैंने सामना किया वैसा किसी और के साथ हो. इसलिए मैंने खुद को COVID केयर नेटवर्क के साथ जोड़ा है ताकि लोगों को यह पता चल सके कि क्या करना है, कहां जाना है और वायरस से डरने के लिए नहीं बताना है."

गिनीज रिकॉर्ड धारक पर्वतारोही और 2016 में माउंट एवरेस्ट फतह करने वाले सत्यरूप सिद्धंता ने बताया कि कुछ सप्ताह पहले  उनके चाचा बीमार हो गए थे. उन्होंने कहा, "हमें खुद से ही सभी तरह की परीक्षा से गुजरना पड़ा ... परीक्षण से लेकर अस्पताल में भर्ती होने तक की वसूली तक. इस यात्रा में, हमने बहुत सी चीजों के बारे में जाना और महसूस किया कि यदि प्रारंभिक चरण में रोगियों को यह जानकारी दी जाती है, तो इससे उन्हें लाभ हो सकता है. इसी तरह COVID केयर नेटवर्क का जन्म हुआ."

इस पहल की अगुवाई करने वाले सीनियर प्रोफेसर ऑफ मेडिसिन डॉ अभिजीत चौधरी और डॉ अरजीत घोष हैं, जो खुद पब्लिक हेल्थ एक्टिविस्ट हैं. ये खुद कोरोनोवायरस संक्रमण से बचे हैं और इन्होंने अपने गंभीर रोगियों के लिए प्लाज्मा भी दान किया है. 

उन्होंने कहा, "इस तरह के एक एनजीओ की सख्त जरूरत है. हम देख रहे हैं कि लोग मानसिक रूप से प्रताड़ित हो रहे हैं, यातनाएं दी जा रही हैं जो एक बार संक्रमण के संपर्क में आता है. जब मैं संक्रमित हो जाता हूं, तो मुझे लगता है कि सब कुछ रुक गया है. क्या मैं भर्ती हो जाऊंगा, मेरे परिवार का क्या होगा? CCN में हम इस भय मनोविकार को कम करने का प्रयास करेंगे. "

डॉ अभिजीत चौधरी को लगता है कि इस ग्रुप को बंगाल की सीमाओं से आगे बढ़ाया जाना चाहिए. "हम एक मिथक खत्म करने वाले उपकरण की तरह इस संगठन का उपयोग करने जा रहे हैं और उन सामाजिक परिस्थितियों तक पहुंचते हैं जहां एक व्यक्ति एक समुदाय के भीतर अस्थिर है क्योंकि उसे बताया गया है वह कोरोना रोगी है. यह हर जगह हो रहा है. हम उन समुदायों तक पहुंच बनाएंगे. स्थानीय क्लबों और संगठनों के माध्यम से हम कोलकाता में इसकी शुरुआत कर रहे हैं. "

वायलिन वादक पल्लब बनर्जी कुछ दिनों पहले नेगिटिव टेस्ट के बाद एक COVID-19 से जंग जीतकर आए हैं. उन्होंने सीसीएन हेल्पलाइन के लिए थीम संगीत तैयार किया है जो रविवार से आएगा, उन्हें उम्मीद है कि वायरस को संगीत के डर को दूर भगाएंगे. "आप कोरोनावायरस को हरा सकते हैं," बनर्जी कहते हैं, "सीसीएन जैसे दोस्तों की थोड़ी मदद आपके पंखों के नीचे की हवा हो सकती है."

सीसीएन के डॉक्टर मरीजों को सकारात्मक परीक्षण करने के बाद कई मुद्दों पर सलाह देंगे, जिसमें यह भी शामिल है कि उन्हें अस्पताल में भर्ती होना है या घर पर रहना है, चाहे उनका परिवार क्वारंटाइन में हो और संक्रमण के लिए उनके पास वैकल्पिक दवाएं हों या नहीं. यह ग्रुप लोगों, सरकार और निजी स्वास्थ्य सेवाओं को जोड़ने वाले पुल के रूप में कार्य करने की उम्मीद करता है.
 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Video: दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच प्‍लाज्‍़मा बैंक की शुरुआत