केरल में राजनीतिक हिंसा में माकपा, भाजपा के कार्यकर्ताओं की मौत

केरल में राजनीतिक हिंसा के लिहाज से पिछले कुछ समय से बनी हुई शांति भंग करते हुए कन्नूर के पास कुछ घंटों के अंतराल पर हुई अलग अलग घटनाओं में माकपा और भाजपा के एक-एक कार्यकर्ता की हत्या कर दी गयी.

केरल में राजनीतिक हिंसा में माकपा, भाजपा के कार्यकर्ताओं की मौत

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

कन्नूर (केरल):

केरल में राजनीतिक हिंसा के लिहाज से पिछले कुछ समय से बनी हुई शांति भंग करते हुए कन्नूर के पास कुछ घंटों के अंतराल पर हुई अलग अलग घटनाओं में माकपा और भाजपा के एक-एक कार्यकर्ता की हत्या कर दी गयी. मुख्यमंत्री पी विजयन ने घटनाओं को लेकर कहा कि कोई भी राजनीतिक हत्याएं नहीं ‘चाहता’ और पुलिस को हिंसा बढ़ने से रोकने का निर्देश दिया गया है. केरल सरकार द्वारा इस साल जनवरी में शुरू की गयी पहलों के कारण क्षेत्र में हिंसा के चक्र पर थोड़े समय के लिए रोक लग गयी थी. पुलिस ने बताया कि सोमवार को माहे के पल्लूर इलाके में माकपा नेता एवं माहे के पूर्व नगर पार्षद बाबू (42) की बर्बर तरीके से हत्या कर दी गयी.

यह भी पढ़ें : दलितों के भारत बंद के दौरान कई राज्यों में हिंसा; 9 लोगों की मौत, हजारों हिरासत में

आठ लोगों के एक समूह ने पहले उनका पीछा किया और फिर उन पर हमला किया. हमलावरों के आरएसएस एवं भाजपा कार्यकता होने की बात कही जा रही है. घटना सोमवार रात नौ बजे हुई. उन्होंने कहा कि बाबू गंभीर रूप से घायल हो गए और अस्पताल ले जाते समय उन्होंने दम तोड़ दिया. इसके बाद साफ तौर पर बदले की एक कार्रवाई में न्यू माहे में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एक कार्यकर्ता की कथित रूप से हत्या कर दी गई. पुलिस ने मंगलवार को बताया कि आरएसएस कार्यकर्ता शेमाज ऑटो चलाता था. सोमवार रात ऑटो से बाहर खींचकर उसकी हत्या कर दी गयी. घटना बाबू की हत्या के 30 मिनट के अंदर हुई. उन्होंने बताया कि कोझिकोड़ मेडिकल कॉलेज ले जाते वक्त रास्ते में उसकी मौत हो गयी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पुलिस ने कहा कि हमलावरों का पता लगाया जा रहा है. न्यू माहे इलाका कन्नूर थाना क्षेत्र में आता है जबकि माहे इलाका संघ शासित प्रदेश पुडुचेरी का हिस्सा है. पुलिस ने बताया कि माकपा के स्थानीय नेता बाबू पर सोमवार रात हुए हमले के कुछ ही घंटों बाद शेमाज पर हमला हुआ. उनका कहना है कि दोनों हत्याएं राजनीतिक रंजिश का परिणाम हैं. पुलिस का कहना है कि मामलों की जांच जारी है. इसी बीच पुलिस ने कहा कि भाजपा और माकपा द्वारा माहे और कन्नूर जिलों में हत्याओं के खिलाफ आहूत हड़ताल लगभग पूरी तरह सफल रही और कोई बड़ी घटना नहीं हुई. केरल के राज्यपाल पी सदाशिवम ने हिंसा की पुनरावृत्ति को लेकर चिंता जतायी और प्रदेश के राजनीतिक नेतृत्व से साथ बैठकर अपने कार्यकर्ताओं को शांति का रास्ता चुनने के लिए मनाने की अपील की.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)