NDTV Khabar

गृह मंत्रालय ने घटाई लालू यादव, राजीव प्रताप रूडी, चिराग पासवान सहित इन नेताओं की सुरक्षा

गृह मंत्रालय ने कई बड़े नेताओं की सुरक्षा में कटौती कर दी है. मंत्रालय ने जिन नेताओं की सुरक्षा घटाई है उनमें राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव और राजीव प्रताप रूडी भी शामिल हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. कई बड़े नेताओं की CRPF सुरक्षा में कटौती
  2. गृह मंत्रालय ने केंद्रीय लिस्ट से हटाया
  3. लालू यादव, राजीव प्रताप रूडी, संगीत सोम की सुरक्षा हटी
नई दिल्ली:

गृह मंत्रालय ने कई बड़े नेताओं की सुरक्षा में कटौती कर दी है. मंत्रालय ने जिन नेताओं की सुरक्षा घटाई है उनमें राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव, बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी, बीजेपी विधायक संगीत सोम, यूपी सरकार के मंत्री सुरेश राणा, एलजेपी सांसद चिराग पासवान, पूर्व सांसद पप्पू यादव शामिल हैं. इन नेताओं की सीआरपीएफ सुरक्षा में कटौती की गई है. 


इससे पहले गृह मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से Z+ सिक्योरिटी हटा ली थी. अब अखिलेश यादव की सुरक्षा में ब्लैक कैट कमांडो नहीं चलेंगे. दरअसल इस बाबत केंद्र सरकार ने ऑर्डर पर साइन कर दिया है. Z प्लस सिक्योरिटी में कुल 55 जवान तैनात होते हैं, जिनमें 10 से ज़्यादा एनएसजी कमांडो होते हैं. अब तक अखिलेश की सुरक्षा में 22 एनएसजी कमांडो तैनात थे. फिलहाल 12 VVIP की सुरक्षा में एनएसजी कमांडो तैनात हैं. जिनमें यूपी से मुलायम सिंह यादव, योगी आदित्यनाथ और मायावती का नाम शामिल है.

आधुनिक हथियारों से लैस 22 'ब्लैक कैट' कमांडो के घेरे में रहते थे सपा मुखिया अखिलेश यादव, लेकिन अब...

बता दें कि केंद्र में यूपीए सरकार के दौरान 2012 में अखिलेश (Akhilesh Yadav) को सर्वोच्च वीआईपी श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई गई थी. अत्याधुनिक हथियारों से लैस 22 एनएसजी कमांडो का एक दल सुरक्षा कवच के तौर पर अखिलेश के साथ तैनात रहता था. सूत्रों ने कहा कि केंद्र और राज्य (उत्तर प्रदेश) की खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के आधार पर गृह मंत्रालय ने खतरे के आकलन के आधार पर यह फैसला किया. उन्होंने कहा कि कम से कम दो दर्जन अन्य वीआईपी लोगों की सुरक्षा या तो वापस ली जाएगी या घटाई जाएगी. अधिकारी ने कहा कि आधिकारिक आदेश जल्द ही जारी होगा.

टिप्पणियां

VIDEO: अखिलेश यादव से छिनी जेड प्लस सिक्योरिटी​

(इनपुट-भाषा) 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement