नोटबंदी: अटॉर्नी जनरल रोहतगी ने प्रधान न्यायाधीश से कहा, मुझे यहां कोई किसान नहीं दिख रहा

नोटबंदी: अटॉर्नी जनरल रोहतगी ने प्रधान न्यायाधीश से कहा, मुझे यहां कोई किसान नहीं दिख रहा

मुकुल रोहतगी (फाइल फोटो)

खास बातें

  • सुप्रीम कोर्ट में हो रही थी सहकारी बैंकों के मामले की सुनवाई
  • रोहतगी ने कहा, "याचिकाकर्ता वकील, ये जनहित याचिकाएं नहीं."
  • सिब्बल ने कहा, "अटॉर्नी जनरल को हमारा मजाक नहीं बनाना चाहिए."
नई दिल्ली:

उच्चतम न्यायालय में शुक्रवार को नोटबंदी को लेकर सुनवाई के दौरान जब सरकार के विरोधी पक्ष के वकीलों ने जिला सहकारी बैंकों के साथ भेदभाव का आरोप लगाया तो अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा कि 'मुझे यहां कोई किसान नहीं दिखाई दे रहा.'

प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल और दूसरे वकीलों ने कहा कि सरकार चलन से बाहर हो चुके 1000 और 500 रुपये के पुराने नोट जिला सहकारी बैंकों में जमा करने की इजाजत नहीं दे रही, जबकि किसान इन्हीं बैंकों पर निर्भर हैं.

इस पर रोहतगी ने कहा, "किसके लिए कौन दलीलें दे रहा है. कोई किसानों के लिए उपस्थित नहीं हुआ है. याचिकाकर्ता वकील हैं. इनको जनहित याचिकाएं नहीं माना जा सकता है." बहरहाल, कुछ याचिकाकर्ताओं के लिए उपस्थित सिब्बल ने कहा, "अटॉर्नी जनरल को हमारा मजाक नहीं बनाना चाहिए."

नोटबंदी से संबंधित ये भी पढ़ें...

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

SC में नोटबंदी पर सुनवाई : जब नाराज CJI टीएस ठाकुर ने कहा, कोर्ट को मछली बाजार बना दिया
अब आएंगे प्लास्टिक के नोट, नोटबंदी के बाद मोदी सरकार का एक और बड़ा फैसला
सूरत में होंडा कार के अंदर मिले 76 लाख रुपये के 2,000 के नए नोट
नोटबंदी का सवाल : सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, 10-15 दिनों में समस्‍याएं होंगी खत्‍म
राहुलके भूकंप वाले बयान पर BJP की प्रतिक्रिया, कांग्रेस को बताया 'घोटालों का केंद्र'
मनमोहन सिंह ने बेहद कड़े शब्दों में की नोटबंदी की आलोचना, बताया 'विशाल त्रासदी'
ऐसे बनी नोटबंदी की गुप्त योजना, पीएम मोदी के घर से इस अफसर की टीम कर रही थी काम
लालूने साधा पीएम पर निशाना, कहा - प्रधानमंत्री 50 दिन बाद इस्तीफा देंगे या मुंह छिपाते फिरेंगे?

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)