हल्दीराम पर साइबर हमला, हैकरों ने डेटा वापस करने के लिए 7.5 लाख रुपये फिरौती मांगी

साइबर अपराधियों ने कंपनी के मार्केटिंग, बिजनेस से लेकर कई महत्वपूर्ण डेटा को डिलीट कर दिया. फिर डेटा वापस करने के लिए 7.5 लाख रुपये की फिरौती भी मांगी.

हल्दीराम पर साइबर हमला, हैकरों ने डेटा वापस करने के लिए 7.5 लाख रुपये फिरौती मांगी

कोरोना काल में कंपनियां भी साइबर हैकरों के निशाने पर (प्रतीकात्मक फोटो)

नोएडा:

फूड एंड पैकेजिंग कंपनी हल्दीराम (HaldiRam) की वेबसाइट पर बड़ा साइबर हमला (Cyber Attack) हुआ है. साइबर अपराधियों ने कंपनी के मार्केटिंग, बिजनेस से लेकर कई महत्वपूर्ण डेटा को डिलीट कर दिया. फिर डेटा वापस करने के लिए साइबर अपराधियों (Cyber criminals) ने 7.5 लाख रुपये की फिरौती भी मांगी.

यह भी पढ़ें- साइबर ठगी: सिम अपग्रेड करने के नाम पर लाखों हड़पे, जामताड़ा और कर्नाटक से आठ गिरफ्तार

कंपनी का कहना है कि ये साइबर हैकिंग 12 जुलाई की देर रात हुई थी. इस मामले में हल्दीराम कंपनी के डीजीएम (आईटी) की शिकायत पर 14 अक्टूबर की देर रात सेक्टर-58 थाने में रिपोर्ट दर्ज हुई. नोएडा सेक्टर-62 के सी ब्लॉक में कंपनी का कॉरपोरेट ऑफिस है. यहां से कंपनी का आईटी विभाग संचालित और नियंत्रित होता है. डीजीएम आईटी अजीज खान ने पुलिस को शिकायत दी कि 12 और 13 जुलाई की रात में कॉरपोरेट ऑफिस के सर्वर पर वायरस अटैक हुआ.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें- ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, अर्धसैनिक बलों का जवान बनकर देते थे घटना को अंजाम

इससे मार्केटिंग, बिजनेस से लेकर अन्य विभाग का डाटा डिलीट कर दिया गया. कई महत्वपूर्ण फाइलें भी गायब हो गईं. जब इसकी जानकारी कंपनी के उच्च अधिकारियों को हुई तो पहले आंतरिक जांच की गई. इसके बाद अधिकारियों और वायरस अटैक करने वालों से चैट हुई. इसमें साइबर क्रिमिनल ने डेटा वापस करने के लिए कंपनी से 7.5 लाख रुपये मांगे. इस मामले में कंपनी के डीजीएम आईटी अजीज खान की शिकायत पर कोतवाली सेक्टर-58 पुलिस ने 14 अक्तूबर को धोखाधड़ी और आईटी एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है.