NDTV Khabar

Cyclone Bulbul: चक्रवात 'बुलबुल' की वजह से कोलकाता में कई जगह उखड़े पेड़, पीएम मोदी और राज्यपाल ने CM ममता से की बात

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वे खुद स्थिति की निगरानी कर रही हैं और बुलबुल तूफान से लड़ने के लिए प्रशासन हरसंभव इंतजाम कर रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Cyclone Bulbul: चक्रवात 'बुलबुल' की वजह से कोलकाता में कई जगह उखड़े पेड़, पीएम मोदी और राज्यपाल ने CM ममता से की बात

मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है.

कोलकाता:

प्रचंड चक्रवाती तूफान बुलबुल ने पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्र पर अपनी दस्तक दे दी है. इसके चलते यहां जगह-जगह बारिश हो रही है और तेज हवाएं चल रही हैं. तेज हवाओं की वजह से कोलकाता समेत कई इलाकों में पेड़ उखड़ने जैसी घटनाएं सामने आ रही हैं. चक्रवाती तूफान बढ़ते दायरे को देखते हुए पीएम मोदी और पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने सीएम ममता बनर्जी से बात की है. पीएम मोदी ने उन्हें हर संभव मदद का भरोसा भी दिया है. भारतीय मौसम विभाग के अनुसार फिलहाल 0230 बजे से चक्रवात का दबाव सुंदरबन नेशनल पार्क से 12 किमी दक्षिण पश्चिम की ओर पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटीय इलाकों पर बना हुआ है.

हांलाकि सुबह तक इसके पश्चिम बंगाल के दक्षिण 24 परगना जिले से होते हुए उत्तर-पूर्व में बांग्लादेश की ओर बढ़ने की संभावना है. तटीय बांग्लादेश और इससे सटे दक्षिण और उत्तर 24 परगना जिले तक पहुंचते-पहुंचते तूफान कमजोर पड़ सकता है. वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अभी तक दो लोगों की मौत होने की संभावना जताई जा रही है. दूसरी ओर प्रशासन की तरफ से राहत और बचाव कार्य युद्ध-स्तर पर चल रहा है. लाखों को प्रभावित इलाकों से निकालकर राहत शिविर में पहुंचाया गया है.


वहीं भारतीय मौसम विभाग ने बताया कि कोलकाता में भी 50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं और इसे 70 किलोमीटर प्रति घंटे होने की संभावना है. पूरे इलाके में भारी बारिश हो रही है. वहीं ‘बुलबुल' तूफान की वजह से हो रही बारिश के कारण अब तक एक-एक मौत पश्चिम बंगाल और ओडिशा में होने की उम्मीद है।


'बुलबुल' तूफान का साया ओडिशा के 15 शहरों पर मंडराया, अलर्ट हुआ जारी

बता दें, अगले 6 घंटो के दौरान पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटों पर समुद्र में हाइटाइड आएंगे.  बंगाल की खाड़ी के उत्तर पश्चिम में समुद्र में स्थिति काफी गंभीर रहेगी. इसके बाद इसमें धीरे-धीरे सुधार होगा.  मौसम विभाग ने मछुआरों को अगले 12 घंटों के दौरान उत्तर ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों पर समुद्र में न जाने की सलाह दी गई है. इसी के साथ अगले 18 घंटे के लिए बंगाल की उत्तरी खाड़ी में भी न जाने का निर्देश दिया गया है. इसके साथ ही अगले 36 घंटों में मेघालय, मिजोरम और असम में हल्की बारिश होने की संभावना है.

टिप्पणियां

चक्रवाती तूफान ‘बुलबुल' के कारण पश्चिम बंगाल में भारी बारिश, एक व्यक्ति की मौत

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वे खुद स्थिति की निगरानी कर रही हैं और बुलबुल तूफान से लड़ने के लिए प्रशासन हरसंभव इंतजाम कर रहा है. उन्होंने नागरिकों से शांति कायम रखने और परेशान न होने का आग्रह किया है. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि स्कूल कॉलेज और आंगनवाड़ी केंद्र बंद रखे गए और तटीय क्षेत्रों के 1.2 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement