NDTV Khabar

तेज हुआ चक्रवात ‘हिका’, मंगलवार रात तक पार कर सकता है ओमान तट

चक्रवात को ध्यान में रखते हुए मौसम विभाग ने गुजरात के मछुआरों को मछली पकड़ने के लिए समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तेज हुआ चक्रवात ‘हिका’, मंगलवार रात तक पार कर सकता है ओमान तट

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

चक्रवात ‘हिका' अरब सागर के पश्चिम की ओर बढ़ते हुए ‘बेहद भीषण चक्रवात' में तब्दील हो गया है और इसके मंगलवार को ओमान तट पार करने की संभावना जताई जा रही है. मौसम विभाग ने यह जानकारी दी. चक्रवात को ध्यान में रखते हुए मौसम विभाग ने गुजरात के मछुआरों को मछली पकड़ने के लिए समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी है. विभान ने अपनी चेतावनी में कहा है कि बुधवार सुबह तक चक्रवात का असर ज्यादा देखने को मिल सकता है. चक्रवात को लेकर आईएमडी ने एक बुलेटिन भी जारी की है. इस बुलेटिन में कहा गया है कि भीषण चक्रवात 'हिका' पिछले छह घंटे से 22 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम की ओर बढ़ रहा है और यह उत्तर-पश्चिम व निकट के पश्चिम-मध्य अरब सागर की ओर बढ़ते हुए बेहद भीषण चक्रवात में तब्दील हो गया है.

Typhoon Lekima ने चीन में मचाई तबाही, अभी तक जा चुकी है 49 लोगों की जान


इसका केन्द्र मंगलवार सुबह तक पाकिस्तान के कराची से 820 किलोमीटर पश्चिम-दक्षिण पश्चिम और ओमान के माशिराह से 220 किलोमीटर पूर्व-दक्षिणपूर्व व ओमान के दुक्म से 350 किलोमीटर पूर्व-उत्तर पूर्व की ओर है. आईएमडी ने कहा कि ऐसी एंभावना है कि अगले छह घंटे तक चक्रवात भीषण बना रहेगा और इसके बाद यह कमजोर होगा. बयान के अनुसार चक्रवात के पश्चिम-दक्षिण पश्चिम की ओर बढ़ने और मंगलवार रात दुक्म के निकट ओमान तट पार करने की संभावना है. इस दौरान 110 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी. आईएमडी ने कहा कि छह घंटे के दौरान 130-140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं उत्तर-पश्चिम और पश्चिम-मध्य अरब सागर पर छा जाने की संभावना है. इसके बाद हवा की गति धीरे-धीरे कम हो कर 100-110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पर आ जाएगी. 


महाराष्ट्र में दिखने लगा 'वायु' चक्रवात का असर, PM मोदी ने आम लोगों से की ये अपील

गौरतलब है कि इससे पहले इसी साल ओडिशा में चक्रवाती तूफान  'फोनी'  (Cyclone Fani) की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या 16 हो गई थी. राज्य के लगभग 10,000 गांवों और 52 शहरी क्षेत्रों में युद्धस्तर पर राहत एवं पुनर्वास कार्य प्रारंभ कर दिये गए हैं और इस तूफान से करीब एक करोड़ लोग प्रभावित हुये थे.  यह चक्रवाती तूफान 'फोनी' (Cyclone Fani) अत्यधिक शक्तिशाली माना जा रहा था और तटीय क्षेत्र पुरी में शुक्रवार को टकराया था.

टिप्पणियां

चक्रवात वायु: गुजरात में परिवहन सेवाएं और बंदरगाह पर कामकाज रोका गया

माना जा रहा था कि यह चक्रवात ग्रीष्म कालीन चक्रवातों में दुर्लभ से दुर्लभतम श्रेणी का है और बीते 43 सालों में पहली बार ओडिशा पहुंचने वाला पहला और बीते 150 सालों में आये तीन सबसे ताकतवर तूफानों में से एक है. अधिकारियों ने बताया था कि 240 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रहे इस भीषण चक्रवाती तूफान की वजह से शुक्रवार को पुरी में तेज बारिश और आंधी आयी. 



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement