BJP को नहीं दिया वोट तो मंत्री करा रहे प्रताड़ित, SP दफ्तर के बाहर धरने पर बैठे दलित परिवार के आरोप

परिवार का आरोप है कि गांव में ही रहने वाले दबंग धाकड़ समाज के कुछ लोगों ने उनके खिलाफ झूठी एफआईआर दर्ज करा दी, जिसके चलते वे गांव में नहीं रह पा रहे हैं. 3 नवंबर को प्रदेश में 28 सीटों पर उप चुनाव के लिए मतदान हुए थे, जिसमें शिवपुरी जिले की पोहरी सीट भी शामिल थी.

BJP को नहीं दिया वोट तो मंत्री करा रहे प्रताड़ित, SP दफ्तर के बाहर धरने पर बैठे दलित परिवार के आरोप

यह पहली बार नहीं है कि शिवपुरी जिले में कथित रूप से शक्तिशाली ओबीसी समुदाय के लोगों ने दलितों पर हमले किए हैं.

शिवपुरी:

मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले में एक दलित परिवार एसपी दफ्तर के सामने धरने पर बैठा है. ठंड के मौसम में वहीं सपरिवार खुले आसमान में रहकर खाना पकाकर खा-पी रहा है और रात गुजार रहा है. आरोप लगा रहा है कि हाल ही में हुए उपचुनावों में बीजेपी को वोट नहीं देने की वजह से उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है. पोहली में झलवासा गांव के दलित परिवार का आरोप है कि राज्य मंत्री सुरेश धाकड़ के कहने से उनपर ज्यादती हो रही है क्योंकि उपचुनाव में उनके परिवार ने उन्हें वोट नहीं दिया था.

परिवार का आरोप है कि गांव में ही रहने वाले दबंग धाकड़ समाज के कुछ लोगों ने उनके खिलाफ झूठी एफआईआर दर्ज करा दी, जिसके चलते वे गांव में नहीं रह पा रहे हैं. 3 नवंबर को प्रदेश में 28 सीटों पर उप चुनाव के लिए मतदान हुए थे, जिसमें शिवपुरी जिले की पोहरी सीट भी शामिल थी.

मध्यप्रदेश के सरकारी अस्पताल में तीन दिन में आठ बच्चों की मौत, शिवराज सरकार ने दिए जांच के आदेश

बता दें कि सत्तारूढ़ भाजपा ने तीन नवंबर को 28 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में से 19 सीटें जीती थी, जबकि मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस को मात्र नौ सीटें मिली थी. पोहरी सीट से सुरेश धाकड़ बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार को हराकर ये सीट अपने पास रखने में सफल रहे हैं.

Newsbeep

MP के टाइगर रिजर्व में दिखा 'जंगल बुक' के मोगली का 'बघीरा', लोगों में बना आकर्षण का केंद्र; देखें VIDEO

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यह पहली बार नहीं है कि शिवपुरी जिले में कथित रूप से शक्तिशाली ओबीसी समुदाय के लोगों ने दलितों पर हमले किए हैं. शिवपुरी जिले में ही सितंबर 2019 में, ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में खुले में शौच करने पर दबंग दो यादव पुरुषों ने कथित रूप से दो दलित बच्चों की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी.