Budget
Hindi news home page

डीआरडीओ प्रमुख को हटाने का फैसला हमारा, इस ओहदे पर अनुबंध वाले नहीं, युवा आएंगे : पर्रिकर

ईमेल करें
टिप्पणियां

close

नई दिल्ली: डीआरडीओ अविनाश चंदर को हटाने के फैसले पर रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा है कि डीआरडीओ प्रमुख को हटाने का फैसला हमारा है। इस ओहदे पर अनुबंध वाले नहीं, बल्कि युवा लोग आएंगे।

वहीं डीआरडीओ चीफ अविनाश चंदर को पद से हटाए जाने की कोई नोटिस नहीं मिला है। सरकार की तरफ से उन्हें इसकी कोई औपचारिक सूचना नहीं दी गई है। वह बुधवार को काम पर आए और उन्होंने कहा कि उन्हें कोई नोटिस नहीं मिला है।

इससे पूर्व खबर आई थी कि डीआरडीओ के प्रमुख अविनाश चंदर को हटा दिया गया है। उनका कार्यकाल 31 जनवरी को खत्म हो जाएगा। हाल ही में उन्हें डेढ़ साल का एक्सटेंशन दिया गया था। कैबिनेट की अपाइंटमैंट कमेटी ने अविनाश चंदर को हटाने को मंजूरी दी है।

वहीं सूत्रों के मुताबिक, शेखर बसु डीआरडीओ के नए डीजी होंगे हालांकि एनडीटीवी से बातचीत में बसु ने साफ किया कि उनके पास अभी ऐसी कोई जानकारी नहीं है, हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि सरकार की तरफ से उन्हें जो जिम्मेदारी दी जाएगी उसे वह निभाने के लिए तैयार हैं।

एक सरकारी अधिसूचना के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट की नियुक्ति मामलों की समिति ने अविनाश चंद्र के अनुबंध को खत्म करने का निर्णय किया और यह निर्णय 31 जनवरी से प्रभावी होगा।

दिलचस्प यह है कि रक्षा अनुसंधान एवं विकास सचिव सह डीआरडीओ महानिदेशक और रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार 64 साल की आयु पूरा होने पर पिछले साल 30 नवंबर को सेवानिवृत्त हो गए थे। उन्हें 31 मई 2016 तक के लिए 18 माह का अनुबंध दिया गया था।

(इनपुट्स भाषा से भी)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement

 
 

Advertisement