रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल की 'शस्त्र पूजा' पर सवाल उठने पर दिया जवाब, बोले- मैंने वही किया जो मुझे सही लगा

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) फ्रांस की Rafale के Handing Over समारोह के बाद तीन-दिवसीय यात्रा समाप्त कर देश लौट आए है. फ्रांस से रवाना होने के पहले उन्होंने फ्रांस की कंपनियों को रक्षा उपकरणों का निर्माण करने के लिए भारत को अपना ठिकाना बनाने का संदेश दिया.

खास बातें

  • रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह फ्रांस से वापस लौटे
  • शस्त्र पूजा करने पर उठे विवाद पर दिया जवाब
  • बोले- यह हमारा विश्वास है कि...
नई दिल्ली:

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) फ्रांस की तीन दिवसीय यात्रा समाप्त करके वापस देश लौट आए है. फ्रांस से रवाना होने के पहले उन्होंने फ्रांस की कंपनियों को रक्षा उपकरणों का निर्माण करने के लिए भारत को अपना ठिकाना बनाने का संदेश दिया. इसके अलावा राफेल विमान (Rafale) की 'शस्त्र पूजा' करने को लेकर उठे सवाल पर विपक्ष की आलोचना का जवाब देते हुए रक्षा मंत्री ने कहा, "चाहें जिसको जो कहना है कहे जो मुझे उचित लगा मैंने किया. भविष्य में भी जो उचित लगेगा मैं करूंगा. हमारी आस्था है, कोई न कोई एक सुपरपावर है, बचपन से ही मैं उसे मानता आया हूं. पूजा करने पर कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए. अगर कोई दूसरे धर्म का मानने वाला होता तो वो भी उसके मुताबिक पूजा कर सकता था. चाहें वो मुस्लिम होता या क्रिश्चियन होता हमको कोई आपत्ति न होती हम उसका स्वागत करते.''

शाहनवाज हुसैन ने कहा- भारत के राफेल खरीदने से पाकिस्तान को चिंता होनी चाहिये, कांग्रेस को...

गौरतलब है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को कहा कि फ्रांस की उनकी यात्रा बेहद सार्थक रही और इससे भारत तथा फ्रांस के द्विपक्षीय रक्षा संबंध और प्रगाढ़ होंगे. राजनाथ सिंह ने रवाना होने से पहले ट्वीट किया,‘‘शुक्रिया फ्रांस! मेर्सी! यह यात्रा बेहद सार्थक रही.'' उन्होंने कहा,‘‘इस यात्रा के नतीजे भारत और फ्रांस के बीच रक्षा सहयोग और मजबूत करेंगे. राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों, रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली और फ्रांस सरकार के आतिथ्य के प्रति मेरा आभार.''

Rafale विमान के Handing Over समारोह में भाग लेने के लिए फ्रांस गए राजनाथ सिंह ने बुधवार शाम को फ्रांस के प्रमुख रक्षा उद्योगों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों को संबोधित किया और तकनीकों के मेल के जरिए भारत के बंदरगाहों और रक्षा मंचों को आधुनिक बनाने को कहा. उन्होंने कहा,‘‘फ्रांस की कंपनियां रक्षा उपकरण निर्माण के लिए भारत को अपना ठिकाना बना सकती हैं. भारत के बड़े बाजार के लिए ही नहीं बल्कि अन्य देशों को निर्यात करने के लिए भी.''

दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- राफेल जरूरी है लेकिन इसकी कीमत बताये मोदी सरकार

राजनाथ सिंह ने भारत भर में एक समान वस्तु एंव सेवा शुल्क लागू करने के महत्व को भी रेखांकित किया. स्वतंत्रता के बाद यह कर सुधार की दिशा में सबसे बड़ा कदम है. उन्होंने कहा,‘‘हमने हाल ही में अपने कॉर्पोरेट कर में भारी कटौती की है. रक्षा के क्षेत्र में यदि ‘मेक इन इंडिया' के लिए कर को और सुसंगत करने की जरूरत पड़ी तो इसपर विचार किया जाएगा.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

रक्षा मंत्री ने फ्रांस की कंपनियों की प्रति वर्ष भारत में डिफेंस एक्सपो में उत्साह के साथ भाग लेने की भी सराहना की. राजनाथ सिंह ने फ्रांस की कंपनियों को अगले साल पांच से आठ फरवरी के बीच लखनऊ में आयोजित होने वाले डेफएक्सपो में भाग लेने के लिए औपचारिक निमंत्रण भी दिया. उन्होंने कहा,‘‘लखनऊ समृद्ध संस्कृति और धरोहरों वाला शहर है और फ्रांस के लोग महान संस्कृतियों का आदर करने वाले माने जाते हैं. लखनऊ उत्तर प्रदेश की राजधानी है और नए अवसरों की भूमि भी.''

VIDEO: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने की राफेल की सवारी