NDTV Khabar

Delhi Elections 2020: चौधरी ब्रह्म प्रकाश थे दिल्ली के पहले CM, जानिए दिल्ली विधानसभा के बारे में सब कुछ

Delhi Elections 2020: चुनाव आयोग ने दिल्ली विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है. दिल्ली में आगामी 8 फरवरी को मतदान होगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Delhi Elections 2020: चौधरी ब्रह्म प्रकाश थे दिल्ली के पहले CM, जानिए दिल्ली विधानसभा के बारे में सब कुछ

दिल्ली में पंजीकृत मतदाताओं की संख्या 1 करोड़ 46 लाख है.

खास बातें

  1. दिल्ली में 8 फरवरी को मतदान होगा.
  2. 11 फरवरी को नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे.
  3. दिल्ली में 70 विधानसभा सीटें हैं.
नई दिल्ली:

Delhi Elections 2020: दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 की तारीखों (Delhi Elections Date) की घोषणा हो गई है. चुनाव आयोग (Election Commission) के ऐलान के मुताबिक दिल्ली में 8 फरवरी को मतदान होगा और 11 फरवरी को नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे. प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि दिल्ली में 2689 मतदान केंद्रों पर वोट डाले जाएंगे और इसके लिए 13757 पोलिंग बूथ बनाए जाएंगे. चुनाव (Delhi Assembly Elections 2020) के दौरान 90 हजार कर्मचारी लगाए जाएंगे. दिल्ली में पंजीकृत मतदाताओं की संख्या करीब 1 करोड़ 46 लाख है. दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी ने जानकारी दी है कि दिल्ली में पुरुष मतदाताओं की तादाद 80,55,686 है, जबकि 66,35,635 महिला मतदाता हैं. राष्ट्रीय राजधानी में 815 मतदाता थर्ड जेंडर के हैं, जबकि NRI मतदाताओं की संख्या 489 है. वहीं, दिल्ली का लिटरेसी रेट 87.6 फीसदी है.

2 लाख से ज्यादा लोग पहली बार देंगे वोट
दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी रणवीर सिंह के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के कुल मतदाताओं में से 2,08,883 मतदाता 18 से 19 साल के बीच हैं, यानी ये लोग पहली बार मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. दिल्ली में सर्विस वोटरों की कुल संख्या 11,556 है, जिनमें से 9,820 पुरुष मतदाता हैं. इसके अलावा राष्ट्रीय राजधानी में 55,823 मतदाता दिव्यांग श्रेणी के हैं. 


दिल्ली की 80 फीसदी आबादी हैं हिंदू
दिल्ली की आबादी लगभग 2 करोड़ है. इनमें से शहर में रहने वाले लोगों की संख्या 97.5 और गावों में रहने वाले लोगों की संख्या 2.5 है. दिल्ली में सबसे ज्यादा 80 फीसदी लोग हिंदू समुदाय से हैं. जिसके बाद 12.8 फीसदी मुस्लिम समुदाय, 4.4 फीसदी सिख समुदाय, 1.4 फीसदी जैन समुदाय, 1.0 फीसदी ईसाई समुदाय और 0.1 फीसदी बुद्ध समुदाय और 0.2 फीसदी अन्य समुदायों से हैं. 

पिछले चुनाव में AAP को मिली थीं 67 सीटें
दिल्ली में 2015 में हुए विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्ट को शानदार जीत हासिल हुई थी. विधानसभा की 70 सीटों में आप को 67 सीटें, बीजेपी को 3, कांग्रेस को 0 सीटें मिली थी. AAP को जहां 54.3 फीसदी वोट मिले तो वहीं बीजेपी को 32.2 और कांग्रेस को सिर्फ 9.7 फीसदी वोट हासिल हुए थे. 

ऐसे हुआ दिल्ली विधानसभा का गठन
दिल्ली में 70 विधानसभा सीटें हैं. दिल्ली राज्य विधानसभा का गठन पहली बार 17 मार्च 1952 को पार्ट-सी राज्य सरकार अधिनियम, 1951 के तहत किया गया था. लेकिन 1 अक्टूबर 1956 को इसका उन्मूलन कर दिया गया. इसके बाद 1966 में विधानसभा की जगह 56 निर्वाचित और 5 मनोनीत सदस्यों वाली एक मेट्रोपोलिटन काउंसिल ने ली. जिसके बाद से 56 सीटों पर 1983, 1977 और 1972 में चुनाव हुए.

वर्ष 1991 में 69वें संविधान संशोधन अधिनियम, 1991 और तत्पश्चात राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र अधिनियम, 1991 ने केंद्र-शासित दिल्ली को औपचारिक रूप से दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की पहचान दी और विधान सभा एवं मंत्री-परिषद से संबंधित संवैधानिक प्रावधान निर्धारित किये. इसके बाद दिल्ली में 1993, 1998, 2003, 2008, 2013 और 2015 में चुनाव हुए. 

टिप्पणियां

चौधरी ब्रह्म प्रकाश थे दिल्ली के पहले सीएम
चौधरी ब्रह्म प्रकाश दिल्ली के पहले सीएम थे. वह स्वतंत्रता सेनानी थे और गांधी जी के कई आंदोलनों में उन्होंने हिस्सा लिया था. ब्रह्म प्रकश 1952 से 1955 तक दिल्ली के मुख्यमंत्री रहे. वह केवल 33 साल की उम्र में दिल्ली के मुख्यमंत्री बने और उस समय के सबसे युवा मुख्यमंत्री थे.

Video: दिल्ली विधाानसभा चुनाव: 8 फरवरी को वोटिंग, 11 फरवरी को आएंगे नतीजे



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... कश्मीरी पंडितों का दर्द हमने कितना समझा?

Advertisement