दिल्ली में कोरोना वायरस के एक्टिव केस 10852, डेथ रेट 2.74 प्रतिशत हुआ

दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 740 लोग ठीक हुए और अब तक कुल 1,38,301 लोग ठीक हो चुके, 787 नए मामले सामने आए

दिल्ली में कोरोना वायरस के एक्टिव केस 10852, डेथ रेट 2.74 प्रतिशत हुआ

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

Delhi Coronavirus Update: दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण का रिकवरी रेट 90.17% है. एक्टिव मरीज़ 7.07% हैं और डेथ रेट 2.74% है. दिल्ली में सोमवार को समाप्त 24 घंटे में कोरोना के 787 मामले सामने आए. कुल मामले 1,53,367 हो गए हैं. पिछले 24 घंटे में 18 मरीजों की मौत हुई और कुल मौतों का आंकड़ा 4214 हो गया. पिछले 24 घंटे में 740 लोग ठीक हुए और अब तक कुल 1,38,301 लोग ठीक हो चुके हैं. दिल्ली में अब कोरोना के एक्टिव केस 10,852 हैं.

दिल्ली में होम आइसोलेशन में 5552 मरीज हैं. पिछले 24 घंटे में दिल्ली में 14,988 (RT-PCR-  4106, एंटीजन- 10,882) टेस्ट हुए. दिल्ली में अब तक कुल 13,17,108 टेस्ट हुए.

राष्ट्रीय राजधानी में कुछ अस्पतालों का कहना है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) से ठीक हो चुके कुछ मरीज (Recovered Patients) फिर से संक्रमित (Infection) होकर उनके पास आ रहे हैं. दिल्ली सरकार द्वारा संचालित राजीव गांधी सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल में इस महीने की शुरुआत में दो मरीजों के कोरोना वायरस से उबरने के करीब डेढ़ महीने बाद वे फिर से संक्रमित हो गए. फिर से संक्रमण के दोनों मामलों में रोगियों में मध्यम लक्षण थे. द्वारका में आकाश हेल्थकेयर में भी एक मामला सामने आया जहां कैंसर का एक रोगी कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद ठीक हो गया और कुछ महीने बाद वह फिर से संक्रमित हो गया. दूसरी बार रोगी की संक्रमण से मौत हो गई.

ITBP ने स्वस्थ हो चुके 161 लोगों को कोविड केयर सेंटर से डिस्चार्ज किया

दिल्ली का एक पुलिसकर्मी पिछले महीने फिर से कोरोना वायरस से संक्रमित हो गया था, जिससे विशेषज्ञ हैरान हैं. इसी तरह राष्ट्रीय राजधानी में नगर निगम द्वारा संचालित कोविड-19 के अस्पताल में काम करने वाली एक नर्स कोरोना वायरस से उबरने के बाद दोबारा संक्रमित हो गई. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

क्‍या कोविड-19 के खिलाफ जंग में जीत रहा है भारत? 'R' फैक्‍टर के जरिये जानिए..

दिल्ली सरकार द्वारा संचालित अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ. बीएल शेरवाल के मुताबिक जब तक वायरस संवर्द्धन का पता नहीं चल जाता या उसके जीन की सिक्वेंसिंग नहीं कर ली जाती है तब तक यह पता करना मुश्किल है कि क्या वायरस के दूसरे स्ट्रेन ने व्यक्ति को दूसरी बार संक्रमित किया है?