NDTV Khabar

दिल्ली : अदालत ने अलकायदा के संदिग्ध आतंकवादी जीशान अली को जेल भेजा

राजधानी की एक अदालत ने अलकायदा के एक संदिग्ध आतंकवादी जीशान अली को आतंकवाद के लिए धन मुहैया कराने के एक मामले में 21 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा है.

110 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली : अदालत ने अलकायदा के संदिग्ध आतंकवादी जीशान अली को जेल भेजा

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. कोर्ट ने जीशान अली को 21 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा
  2. आतंकवाद के लिए धन मुहैया कराने के मामले में हुई कार्रवाई
  3. जीशान अली को मामले में सऊदी अरब से निर्वासित किया गया था
नई दिल्ली: राजधानी की एक अदालत ने अलकायदा के एक संदिग्ध आतंकवादी जीशान अली को आतंकवाद फैलाने के लिए धन मुहैया कराने के एक मामले में 21 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेजा है. अली को इस महीने की शुरुआत में सऊदी अरब से निर्वासित किया गया था. पुलिस ने हिरासत में पूछताछ के बाद उसे अदालत के समक्ष पेश किया था. इसके बाद अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सिद्धार्थ शर्मा ने गुरुवार को यह आदेश पारित किया.

यह भी पढ़ें : सउदी अरब से लाए गए जीशान का भाई और साला भी आतंकवादी, एजेंसियों को मिली अहम जानकारी

सऊदी अरब से निर्वासित
झारखंड निवासी और 2007 ग्लासगो हवाई अड्डे हमले के संदिग्ध के रिश्तेदार 29 वर्षीय अली को इस मामले के सिलसिले में सऊदी अरब से निर्वासित किया गया था. वह अलकायदा के अन्य सदस्यों के साथ भारतीय युवकों की भर्ती के लिए भड़काऊ भाषण बनाने का षडयंत्र करने और आतंकी संगठन के लिए एक आधार स्थापित करने का भी आरोपी है. वीजा उल्लंघन के आधार पर उसके निर्वासन के बाद दिल्ली पुलिस ने 9 अगस्त को उसे इंदिर गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर गिरफ्तार किया था, क्योंकि उसके खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी था. दिल्ली की एक अदालत ने 12 जुलाई को उसे और अन्य 11 को अपराधी घोषित किया था.

VIDEO: आतंकी हाफिज सईद ने बनाई राजनीतिक पार्टी



2015-16 के बीच हुए गिरफ्तार
पुलिस द्वारा पूर्व में गिरफ्तार 5 आरोपियों द्वारा उनके नामों का खुलासा किया गया था और ये पाकिस्तान और अन्य देशों से भारत में संचालित प्रतिबंधित संगठन के सक्रिय सदस्य है. इस संगठन को भारतीय उपमहाद्वीप में अलकायदा के रूप में जाना जाता है. देश के विभिन्न भागों से इन पांचों को दिसंबर 2015 और जनवरी 2016 के बीच गिरफ्तार किया गया था. एजेंसी ने इन पांचों पर गैरकानूनी गतिविधियों (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के प्रावधानों के तहत आरोप लगाए थे. 

इनपुट: भाषा


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement