Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

निर्भया केस के दोषियों के लिए दिल्ली की तिहाड़ जेल में डमी फांसी दी गई

डमी फांसी प्रक्रिया के तहत चार बोरों में चारों दोषियों के वजन के हिसाब से मिट्टी और पत्थर भरा गया, इन बोरों को रस्सियों से लटकाया गया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
निर्भया केस के दोषियों के लिए दिल्ली की तिहाड़ जेल में डमी फांसी दी गई

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  1. तिहाड़ के जेल नंबर 3 की फांसी कोठी में डमी फांसी दी गई
  2. चारों दोषियों को 22 जनवरी को फांसी पर लटकाया जाएगा
  3. मंगलवार को क्यूरेटिव पिटीशन पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी
नई दिल्ली:

निर्भया गैंग रेप और हत्या के मामले में दोषी चारों आरोपियों को फांसी पर लटकाने के अभ्यास के रूप में रविवार को डमी फांसी दी गई. डमी फांसी की प्रक्रिया दिल्ली की तिहाड़ जेल में पूरी की गई. इस प्रक्रिया के तहत चार बोरों में चारों दोषियों के वजन के हिसाब से मिट्टी पत्थर भरा गया. इन बोरों को रस्सियों से लटकाया गया. निर्भया केस के दोषी मुकेश सिंह, विनय शर्मा, अक्षय ठाकुर और पवन गुप्ता को 22 जनवरी को फांसी पर लटकाया जाएगा.   

दिल्ली की तिहाड़ जेल में रविवार को सुबह निर्भया केस के चारों दोषियों के लिए डमी फांसी दी गई. चारों दोषियों के वजन के हिसाब से बोरे में मिट्टी, पत्थर भरकर लटकाया गया. अब इन्हीं रस्सियों से 22 जनवरी को फांसी देने की तैयारी है.

हालांकि मंगलवार को क्यूरेटिव पिटीशन पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई है. दो दोषियों विनय कुमार शर्मा और मुकेश सिंह ने फांसी की सजा से बचने के लिए सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल की है.


Nirbhaya Case: 2 दोषियों की क्यूरेटिव पिटीशन पर 14 जनवरी को SC में सुनवाई, फांसी को उम्रकैद में बदलने की अपील

डमी फांसी रविवार की सुबह दे दी गई. तिहाड़ के जेल नंबर 3 की फांसी कोठी में डमी फांसी दी गई. जेल सुप्रिंटेंडेंट की मौजूदगी में डमी फांसी हुई.

निर्भया केस: डेथ वारंट जारी होने के बाद अलग अलग सेल में रखा गया दोषियों को, फिलहाल परिवार को मिलने की अनुमति

टिप्पणियां

VIDEO : क्या निर्भया के दोषियों को हो सकेगी 22 जनवरी को फांसी



दिल्ली चुनाव (Elections 2020) के LIVE चुनाव परिणाम, यानी Delhi Election Results 2020 (दिल्ली इलेक्शन रिजल्ट 2020) तथा Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से जगह बदलने के लिए सुप्रीम कोर्ट के मध्यस्थ करेंगे बातचीत

Advertisement