निर्भया केस के दोषियों के लिए दिल्ली की तिहाड़ जेल में डमी फांसी दी गई

डमी फांसी प्रक्रिया के तहत चार बोरों में चारों दोषियों के वजन के हिसाब से मिट्टी और पत्थर भरा गया, इन बोरों को रस्सियों से लटकाया गया

निर्भया केस के दोषियों के लिए दिल्ली की तिहाड़ जेल में डमी फांसी दी गई

प्रतीकात्मक फोटो.

खास बातें

  • तिहाड़ के जेल नंबर 3 की फांसी कोठी में डमी फांसी दी गई
  • चारों दोषियों को 22 जनवरी को फांसी पर लटकाया जाएगा
  • मंगलवार को क्यूरेटिव पिटीशन पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी
नई दिल्ली:

निर्भया गैंग रेप और हत्या के मामले में दोषी चारों आरोपियों को फांसी पर लटकाने के अभ्यास के रूप में रविवार को डमी फांसी दी गई. डमी फांसी की प्रक्रिया दिल्ली की तिहाड़ जेल में पूरी की गई. इस प्रक्रिया के तहत चार बोरों में चारों दोषियों के वजन के हिसाब से मिट्टी पत्थर भरा गया. इन बोरों को रस्सियों से लटकाया गया. निर्भया केस के दोषी मुकेश सिंह, विनय शर्मा, अक्षय ठाकुर और पवन गुप्ता को 22 जनवरी को फांसी पर लटकाया जाएगा.   

दिल्ली की तिहाड़ जेल में रविवार को सुबह निर्भया केस के चारों दोषियों के लिए डमी फांसी दी गई. चारों दोषियों के वजन के हिसाब से बोरे में मिट्टी, पत्थर भरकर लटकाया गया. अब इन्हीं रस्सियों से 22 जनवरी को फांसी देने की तैयारी है.

हालांकि मंगलवार को क्यूरेटिव पिटीशन पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई है. दो दोषियों विनय कुमार शर्मा और मुकेश सिंह ने फांसी की सजा से बचने के लिए सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल की है.

Nirbhaya Case: 2 दोषियों की क्यूरेटिव पिटीशन पर 14 जनवरी को SC में सुनवाई, फांसी को उम्रकैद में बदलने की अपील

डमी फांसी रविवार की सुबह दे दी गई. तिहाड़ के जेल नंबर 3 की फांसी कोठी में डमी फांसी दी गई. जेल सुप्रिंटेंडेंट की मौजूदगी में डमी फांसी हुई.

निर्भया केस: डेथ वारंट जारी होने के बाद अलग अलग सेल में रखा गया दोषियों को, फिलहाल परिवार को मिलने की अनुमति

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : क्या निर्भया के दोषियों को हो सकेगी 22 जनवरी को फांसी