दिल्ली विधानसभा चुनाव : 'बंद शाहीन बाग' से BJP खोलना चाहती है 'जीत का रास्ता'

दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस ने अभी तक किसी को भी मुख्यमंत्री पद का दावेदार नहीं घोषित किया है.

दिल्ली विधानसभा चुनाव : 'बंद शाहीन बाग' से BJP खोलना चाहती है 'जीत का रास्ता'

शाहीन बाग में नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है (फाइल फोटो)

खास बातें

  • दिल्ली विधानसभा चुनाव
  • कपिल मिश्रा ने भारत-पाकिस्तान मैच कहा
  • CAA को भुनाने की कोशिश
नई दिल्ली:

दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस ने अभी तक किसी को भी मुख्यमंत्री पद का दावेदार नहीं घोषित किया है. दूसरी ओर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की अगुवाई में आम आदमी पार्टी बार भी पहले जैसा 'करिश्मा' करने की जुगत में है. कई मूलभूत सुविधाएं जैसे बिजली, पानी को मुफ्त देने की योजनाओं के बूते आम आदमी पार्टी को मैदान में मजबूती से खड़ा रखा है. दूसरी ओर बीजेपी ने भी एक बड़े चुनावी प्रचार की रूप रेखा तय की है जिसमें करीब कई छोटी-बड़ी रैलियां शामिल हैं. बीजेपी ने स्टार प्रचारकों की लिस्ट भी जारी की है जिसमें पीएम मोदी, गृहमंत्री अमित शाह  और अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा शामिल हैं.   जेपी नड्डा अपने कार्यकर्ताओं से कहते हैं कि दिल्ली का चुनाव पहले कागज पर उतारो फिर जमीन पर उतरेगा. इसीलिए भाजपा युवा मोर्चा को जिम, कोचिंग, अखाड़ा, लाइब्रेरी में संपर्क तेज करने को कहा है और बड़े नेताओं को हर गली नुक्कड़ पर उतारने की तैयारी है. 

a3ls4gko

क्या मुद्दों से जूझ रही है BJP
लेकिन पूरे चुनाव में बीजेपी मुद्दों से जूझती नजर आ रही है. इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दिल्ली में आयोजित रैली के दौरान गृहमंत्री अमित शाह कहते हैं कि विधानसभा में भी पीएम मोदी को ही बड़ा चेहरा बताया. तो दूसरी एक बीजेपी सांसद और प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी को कहते सुना गया कि जितना केजरीवाल सरकार ने दिया है उससे 5 गुना ज्यादा ही देंगे. वहीं उन्होंने यह भी कहा कि दिल्ली में बीजेपी सरकार आने पर दी जा रही मुफ्त योजनाएं बंद नहीं की जाएंगी. कुल मिलाकर पार्टी नेताओं के बयानों से अंदाजा लगाया जा सकता है कि बीजेपी को अभी तक केजरीवाल सरकार की ओर दी जा रही मुफ्त योजनाओं की काट नहीं मिल पाई है. 

'शाहीन बाग' से है क्यों उम्मीद
बीजेपी की कोशिश है कि नागरिकता कानून के विरोध में चल धरने के जरिए वोटों का ध्रुवीकरण किया जाए. इसका अंदाजा बीजेपी नेता और विधानसभा चुनाव प्रत्याशी कपिल मिश्रा के बयान से अंदाजा लगाया जा सकता है. कपिल मिश्रा  ट्विटर पर कहते हैं, 'AAP और कांग्रेस ने शाहीन बाग जैसे मिनी पाकिस्तान खड़े किए हैं. जवाब में 8 फरवरी को हिंदुस्तान खड़ा होगा. जब जब देशद्रोही भारत मे पाकिस्तान खड़ा करेंगे. तब तब देशभक्तों का हिंदुस्तान खड़ा होगा.' बीजेपी को अंदाजा है कि नागरिकता कानून और एनआरसी के मुद्दे पर जितना विरोध बढ़ेगा, चुनाव में उसे फायदा हो सकता है.  

बंद 'शाहीन बाग' से जीत का रास्ता खोलने की कोशिश
दूसरी ओर बीजेपी की पूरी रणनीति है कि शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन के चलते सरिता विहार और कालिंदी कुंज का वाला रास्ता बंद है, वह चुनाव तक यथास्थिति में बना रहे क्योंकि इससे उस इलाके में रहने वालों का भी गुस्सा बढ़ रहा है और वे इसके लिए प्रदर्शन कर चुके हैं. इसके साथ ही इसे खुलवाने के लिए स्थानीय लोग आंदोलन की भी तैयारी में है. दूसरी ओर यह रास्ता बंद होने से दिल्ली-नोएडा को जोड़ने वाले एक और रास्ते डीएनडी पर भी लंबा जाम देखने को मिल रहा है. जिससे लोगों का गुस्सा बढ़ रहा है. हाईकोर्ट ने भी दिल्ली पुलिस से मामला के देखने के लिए कहा है लेकिन ऐसा लग रहा है कि दिल्ली पुलिस भी फिलहाल इंतजार कर रही है.


 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com