कौन हैं सुनील यादव और रोमेश सभरवाल? जिसे BJP और कांग्रेस ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मैदान में उतारा

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के खिलाफ विधानसभा चुनाव में नई दिल्ली सीट से कांग्रेस और बीजेपी ने किसी बड़े चेहरे वाले प्रत्याशी को नहीं उतारा.

कौन हैं सुनील यादव और रोमेश सभरवाल? जिसे BJP और कांग्रेस ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मैदान में उतारा

कांग्रेस के उम्मीदवार रोमेश सभरवाल और बीजेपी के उम्मीदवार सुनील यादव- (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) के खिलाफ विधानसभा चुनाव में नई दिल्ली सीट से कांग्रेस और बीजेपी ने किसी बड़े चेहरे वाले प्रत्याशी को नहीं उतारा. भारतीय जनता पार्टी (BJP) से उम्मीदवार सुनील यादव और कांग्रेस से रोमेश सभरवाल नई दिल्ली विधानसभा सीट से आमने-सामने हैं. अब सवाल उठता है कि आखिर दो बड़ी पार्टियों ने केजरीवाल के खिलाफ बड़ा चेहरा सामने क्यों नहीं लाया? वजह बिल्कुल साफ है कि यह सीट केजरीवाल के राजनीतिक करियर के लिए अहम पड़ाव साबित हुई है. जीवन का पहला चुनाव लड़ते हुए केजरीवाल ने साल 2013 में उस समय की तत्कालीन मुख्यमंत्री और कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित को हरा दिया था. इसके बाद साल 2015 में उन्होंने बीजेपी की नेता नूपुर शर्मा को हराया था. ऐसे में बीजेपी या कांग्रेस किसी बड़े नेता को अरविंद केजरीवाल के सामने नहीं लाना चाहेगी.

दिल्‍ली विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने जारी की 57 उम्‍मीदवारों की सूची, देखें पूरी लिस्‍ट

कौन हैं सुनील यादव?
भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष सुनील यादव को बीजेपी ने केजरीवाल के खिलाफ उतारा है. पेशे से सुनील यादव वकील और सामाजिक कार्यकर्ता हैं. भारतीय जनता युवा मोर्चा में मंडल अध्यक्ष के तौर पर शुरुआत की थी. सुनील यादव इससे पहले दिल्ली बीजेपी में सचिव भी रहे हैं. तेजतर्रार युवा छवि के सुनील यादव DDCA में भी डायरेक्टर के तौर पर जुड़े रहे हैं.

कौन हैं रोमेश सभरवाल?
नई दिल्ली से सीट कांग्रेस ने रोमेश सभरवाल को उतारा है. वह 40 सालों से कांग्रेस जुड़े हैं. उन्होंने एनएसयूआई से राजनीतिक सफर शुरू किया था. 

चुनाव की तारीख
दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 के लिए तारीखों की घोषणा कर दी गई है, और राष्ट्रीय राजधानी में एक ही चरण में 8 फरवरी को मतदान होगा. मतदान के बाद 11 फरवरी को नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे. दिल्ली में विधानसभा की 70 सीटें हैं जिसमें से 58 सामान्य श्रेणी की है जबकि 12 सीटें अनुसूचित जाति के लिये आरक्षित हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

AAP ने दिल्ली की सभी 70 सीटों पर जारी की उम्मीदवारों की सूची, 15 विधायकों का कटा टिकट

पिछले चुनाव में AAP को मिली थीं 67 सीटें
दिल्ली में 2015 में हुए विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्ट को शानदार जीत हासिल हुई थी. विधानसभा की 70 सीटों में आप को 67 सीटें, बीजेपी को 3, कांग्रेस को 0 सीटें मिली थी. AAP को जहां 54.3 फीसदी वोट मिले तो वहीं बीजेपी को 32.2 और कांग्रेस को सिर्फ 9.7 फीसदी वोट हासिल हुए थे.