NDTV Khabar

दिल्ली : ISI के इशारे पर टेलीफोन एक्सचेंज के जरिए हो रही थी सेना की जासूसी, 11 लोग गिरफ्तार

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिल्ली : ISI के इशारे पर टेलीफोन एक्सचेंज के जरिए हो रही थी सेना की जासूसी, 11 लोग गिरफ्तार

टेलीफोन एक्सचेंज के जरिए जासूसी...

खास बातें

  1. यूपी ATS की टीम ने बुधवार को दिल्ली पंजाबी बाग इलाके में FIITJEE के दफ्तर
  2. गुलशन कुमार पर सेना की जासूसी की आरोप
  3. इस मामले में अब तक 11 लोग गिरफ्तार
नई दिल्ली:

यूपी ATS की टीम ने बुधवार को दिल्ली पंजाबी बाग इलाके में FIITJEE के दफ्तर में छापा मारा. दरअसल, ATS की टीम ने 24 जनवरी को दिल्ली से अवैध तरीक के इंटरनेशनल टेलीफोन एक्सचेंज चलाने के मास्टरमाइंड गुलशन को गिरफ्तार किया था. गुलशन पर आरोप है कि वह अवैध तरीके से पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के इशारे पर इंटरनेशनल टेलीफ़ोन एक्सचेंज चला रहा था. इस मामले में ATS ने 11 लोगों को गिरफ़्तार किया है. गुलशन अफ़गानिस्तान में नाटो के लिए काम कर चुका है. अब वह सिम बॉक्स के जरिए सेना की जासूसी के काम में लगा था. इस मामले में कई जगह अब भी रेड चल रही है.

गुलशन कुमार लंबे समय तक अफगानिस्तान में रहकर नाटो सेना के लिए साइबर क्राइम के लिए काम कर चुका है.
दरअसल, जम्मू-कश्मीर मिलिट्री इंटेलीजेंस को जानकारी मिली कि कुछ भारतीय नम्बरों से जासूसी करने के मकसद से आर्मी यूनिट्स पर कॉल आ रहे हैं. यह जानकारी यूपी एटीएस को दी गई और जब एटीएस ने इन नम्बरों की जांच की तो पाया कि अवैध टेलफोन एक्सचेंज के माध्यम से भारत के बाहर से कॉल किए जा रहे हैं और डिस्पले पर भारत का ही नंबर दिखता है.

एटीएस के सीओ अनूप कुमार ने बताया कि अब तक 24 फर्जी टेलीफोन एक्सचेंज का पता लगा चुकी है. इसके जरिए टेलीकॉम डिपार्टमेंट को तो करीब दो करोड़ से ज्यादा का नुकसान हो ही चुका है, लेकिन इसके जरिए वह देश की सुरक्षा के बारे में अहम जानकारियां भी जुटा रहा था. इसका एक सर्वर अमेरिका में भी है.


इन अवैध एक्सचेंजों का पता लगाने के लिए एटीएस ने जानकारी जुटानी शुरू की, जिन नंबर से फ़ोन किए जा रहे थे उन मोबाइल नम्बरों की जांच शुरू की गई. एटीएस को पता चला कि इस तरह के अवैध टेलीफोन एक्सचेंज लखनऊ, सीतापुर हरदोई में चल रहे हैं, इनको चलाने वाले किसी दूसरे के नाम पते पर सिम लेकर सिम बॉक्स में डालकर चलाते हैं, एटीएस की टीम ने छापा मारकर 11 लोगों को गिरफ्तार कर लिया.

टिप्पणियां

जब गिरफ्तार लोगों से पूछताछ की गई तो पता चला कि इस एक्सचेंज को चलाने वाला मास्टरमाइंड गुलशन नाम का एक शख्स है, जो दिल्ली के महरौली इलाके में है. एटीएस ने दिल्ली से गुलशन को गिरफ्तार कर लिया और उसे रिमांड पर लेकर पूछताछ की गई. गुलशन से पूछताछ में पता चला कि दिल्ली के पंजाबी बाग में FIITJEE के सेंटर में भी उसका सरवर है, एटीएस की टीम यहां पहुंची और अब जांच की जा रही है.

इस टेलीफोन एक्सचेंज के जरिये विदेश में बैठा कोई भी शख्स भारत में इन्टरनेट कॉल करता है और सिम बॉक्स के जरिए वाइस कॉल में बदलकर हिन्दुस्तान के जिन नम्बर पर विदेश में बैठा व्यक्ति बात करना चाहता है ये लोग बात करा देते थे और हिन्दुस्तानी नंबर पर विदेशी नम्बर की जगह हिन्दुस्तान का ही नम्बर दिखता था. एटीएस को लगता है कि जो फ़ोन आर्मी के अधिकारियो को आ रहे थे वह पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI साजिश भी हो सकती है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement