Delhi-NCR की दमघोंटू हवा में जीना मुहाल, नोएडा-गाजियाबाद में PM 2.5 पहुंचा 500 के पार

AIR Pollution का हाल बताने वाले सफर के अनुसार, पीएम 2.5 और पीएम 10 का स्तर दिल्ली-एनसीआर के ज्यादातर इलाकों में 500 से ज्यादा है. नोएडा में पीएम 2.5 और पीएम 10 का स्तर 550 के भी ऊपर है.

Delhi-NCR की दमघोंटू हवा में जीना मुहाल, नोएडा-गाजियाबाद में PM 2.5 पहुंचा 500 के पार

दिल्ली-एनसीआर के सभी शहरों में वायु प्रदूषण दिनोंदिन गंभीर होता जा रहा है

नई दिल्ली:

दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) की जहरीली दमघोंटू हवा ने जीना मुहाल कर दिया है. तेज हवाओं के बीच छाए स्मॉग के कारण वायु प्रदूषण (Air Pollution) की स्थिति दिल्ली, नोएडा (Noida), गाजियाबाद (Ghaziabad)  और फरीदाबाद जैसे शहरों में बेहद गंभीर बनी हुई है. वायु प्रदूषण का हाल बताने वाला PM 2.5 ज्यादातर शहरों में 500 के पार है, जबकि इसे कम से कम 100 से नीचे होना चाहिए.

यह भी पढ़ें- दिल्ली व पड़ोसी राज्यों के बीच सहयोग पर निर्भर प्रदूषण के खिलाफ जंग, आयोग के सदस्य बोले

वायु गुणवत्ता को आंकने वाले सरकारी सूचकांक सफर (SAFAR) के अनुसार, पीएम 2.5 और पीएम 10 का स्तर दिल्ली-एनसीआर के ज्यादातर इलाकों में 500 से ज्यादा है. नोएडा में प्रदूषण की स्थिति शनिवार को भी सबसे ज्यादा भयावह रही. शहर में पीएम 2.5 और पीएम 10 का स्तर 550 के भी ऊपर है.

यह भी पढ़ें- दिल्ली में अवैध तरीके से पटाखे बेच रहे दो युवक गिरफ्तार, पाबंदी लागू होते ही कार्रवाई तेज

गौरतलब है कि पराली जलाने के मामलों में इजाफे और हवा की गति कम होने के कारण राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण पिछले एक साल में सबसे खराब स्तर पर पहुंच गया है. इसमें पराली जलाने की हिस्सेदारी 42 फीसदी थी।विशेषज्ञों ने बताया कि हवा की कम गति, तापमान में गिरावट जैसी मौसम की प्रतिकूल स्थितियों और पड़ोसी राज्यों से पराली जलाए जाने के बाद धुआं आने से वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘गंभीर' श्रेणी में रहा, लेकिन बाद में हवा की तेज गति की वजह से प्रदूषक तत्वों का बिखराव हुआ है. जनवरी के बाद नवंबर में एक्यूआई ‘गंभीर' स्थिति में पहुंचा गया है.

यह भी पढ़ें- पटाखा बैन पर बोले सत्येंद्र जैन- 'भगवान की भक्ति करिए, एक साल पटाखे नहीं जलाएंगे तो...'

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और फरीदाबाद में वायु गुणवत्ता शुक्रवार को भी ‘गंभीर' श्रेणी में थी. जबकि गुड़गांव में इसमें कुछ सुधार था. फिर भी गंभीर की जगह ''बेहद खराब' श्रेणी में पहुंच गई। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के वायु गुणवत्ता सूचकांक से पता चला है कि पीएम 2.5 और पीएम 10 के जमाव का स्तर अब भी दिल्ली के इन पड़ोसी पांच शहरों में ज्यादा है।

Newsbeep

जानिए इन इलाकों का हाल
(शहर- PM 2.5- PM 10)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


लोधी रोड-362-321
नोएडा-566-575
आईजीआई-422-366
पूसा-432-400
मथुरा रोड-452-488
IIT दिल्ली-504-502
आयानगर-461-406
गुरुग्राम-402-449
(सुबह के वक्त पीएम 2.5, पीएम 10 का स्तर)