NDTV Khabar

Odd नंबर की कार होने पर साइकिल से दफ्तर पहुंचे डिप्टी CM मनीष सिसोदिया, देखें VIDEO

मनीष सिसोदिया ने कहा कि Odd-Even इसलिए ना मानें कि सरकार ने लागू किया है बल्कि इसलिए मानें क्योंकि हमारे बच्चों की सेहत के लिए ये जरूरी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

दिल्ली में प्रदूषण पर लगाम लगाने के प्रयास के तहत सोमवार सुबह आठ बजे से वाहनों की सम-विषम योजना (Odd-Even Scheme) शुरू हो गई. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से अनुरोध किया है कि वे अपने परिवार और बच्चों के लिये इसका पालन करें. इस योजना के तहत जिन श्रेणियों के वाहनों को छूट प्राप्त है उन्हें छोड़कर आज सिर्फ वही चार पहिया गाड़ियां सड़कों चलेंगी जिनकी पंजीकरण संख्या का आखिरी अंक सम है. ऐसे में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के पास ओड नंबर की कार है. आज इवन डेट है इसलिए डिप्टी सीएम साइकिल पर सवार होकर अपने घर से दफ्तर पहुंचे हैं. 

इस दौरान एनडीटीवी इंडिया ने उनसे बातचीत की. उन्होंने कहा कि Odd-Even इसलिए ना मानें कि सरकार ने लागू किया है बल्कि इसलिए मानें क्योंकि हमारे बच्चों की सेहत के लिए ये जरूरी है. दिल्ली में 99 फीसदी गाड़ियां Odd-Even का पालन कर रही है. दिल्ली वालों ने इसे अपनाया है. 

दिल्ली में Odd-Even योजना शुरू, वायु गुणवत्ता अब भी ‘गंभीर', CM केजरीवाल ने लोगों से की यह अपील


साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के बैठक ने करने और प्रदूषण को प्राथमिकता न देने से आज ऐसे हालात हैं. पंजाब-हरियाणा में 26 लाख किसान हैं, इन्होंने केवल 63 हजार मशीन दी हैं, ऐसे कैसे समस्या का निपटारा होगा. अगले 50 साल तक सरकार ऐसे ही हालात बनाये रखना चाहती है? पराली से पूरे उत्तर भारत की हालत खराब है.

विधानसभा चुनाव के बारे में उन्होंने कहा, अरविंद केजरीवाल की सरकार ने 5 साल में जितने काम किये, इसके आधार पर दिल्ली की जनता काम पर वोट देगी. इसमें कोई शक नहीं है. सरकार आम आदमी पार्टी की ही बनेगी. 

Odd-Even Scheme: नोएडा से वाहन लेकर आए शख्स पर लगा जुर्माना, कहा- मुझे पता ही नहीं...

टिप्पणियां

बता दें, दिल्ली में शहर में आज सुबह साढ़े सात बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 439 था जो “गंभीर” श्रेणी में आता है. एक्यूआई 0-50 के बीच ‘अच्छा', 51-100 के बीच ‘संतोषजनक', 101-200 के बीच ‘मध्यम', 201-300 के बीच ‘खराब', 301-400 के बीच ‘अत्यंत खराब', 401-500 के बीच ‘गंभीर' और 500 के पार ‘बेहद गंभीर' माना जाता है.

दिल्ली में वायु गुणवत्ता पिछले तीन साल में सबसे खराब स्तर पर, सांस लेना हुआ दूभर
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... निर्भया गैंगरेप के दोषी विनय ने बनाई पेंटिंग, डायरी लिखी और शीर्षक रखा 'दरिंदा'

Advertisement