दिल्ली पुलिस का ASI निकला जबरन वसूली के रैकेट का मास्टरमाइंड, मिल चुका है गैलेंट्री अवॉर्ड

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) में बेहतरीन कार्य के लिए गैलेंट्री अवॉर्ड से सम्मानित एक सुपर कॉप फिरौती मांगने वाले रैकेट का मास्टमाइंड निकला.

दिल्ली पुलिस का ASI निकला जबरन वसूली के रैकेट का मास्टरमाइंड, मिल चुका है गैलेंट्री अवॉर्ड

आरोपी ASI राजबीर सिंह.

खास बातें

  • दिल्ली पुलिस का ASI गिरफ्तार
  • ASI को मिल चुका है गैलेंट्री अवॉर्ड
  • पुलिस कर रही आरोपियों से पूछताछ
नई दिल्ली:

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) में बेहतरीन कार्य के लिए गैलेंट्री अवॉर्ड से सम्मानित एक सुपर कॉप फिरौती मांगने वाले रैकेट का मास्टमाइंड निकला. दिल्ली पुलिस ने अपने ही ASI समेत इस गैंग से जुड़े 5 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. दक्षिणी दिल्ली के डीसीपी अतुल ठाकुर के मुताबिक, पकड़े गए ASI का नाम राजबीर सिंह है, जो फिलहाल दक्षिणी पश्चिमी जिले की पीसीआर यूनिट में तैनात था. इससे पहले वह स्पेशल सेल और क्राइम ब्रांच में भी तैनाती पा चुका है. पुलिस के मुताबिक, हौजखास इलाके में रहने वाले एक बिल्डर ने इसी साल 28 जून को शिकायत देकर बताया कि 28 जून की सुबह 11 बजे उन्हें एक अनजान नम्बर से कॉल आई थी.

बिल्डर के अनुसार, कॉल करने वाले ने अपना नाम काला बताया और कहा कि अगर बिल्डर ने उसे 2 करोड़ रुपये नहीं दिए तो उसके पूरे परिवार की हत्या कर दी जाएगी. जांच में पता चला कि जिस सिम से कॉल किया गया, वो रोहतक के रहने वाले राममूर्ति नाम के शख्स से 27 जून को छीना गया था, लेकिन कॉल करने वाले ने राममूर्ति का फोन इस्तेमाल करने की बजाय केवल सिम का इस्तेमाल किया. पुलिस को पता चला कि कॉल करने के दौरान जिस मोबाइल का इस्तेमाल हुआ, वो दिल्ली के सावन नाम के शख्स से मुकेश नाम के शख्स ने लिया था.

3,330 अमेरिकी डॉलर लूटने के मामले में सोशल मीडिया इंफ्लुएंसर और उसका दोस्त गोवा से गिरफ्तार

जिसके बाद यह मोबाइल हरियाणा के गैंगस्टर प्रमोद उर्फ काला को दे दिया गया, जिसने राजस्थान के भिवाड़ी से वसूली के लिए कॉल किया था. पुलिस ने जाल बिछाकर सावन, प्रमोद उर्फ काला, मुकेश और इनके साथी सनी को गिरफ्तार कर लिया. जांच में पता चला कि प्रमोद उर्फ काला जबरन उगाही की कॉल करने के लिए 3 मोबाइल नम्बरों का इस्तेमाल कर रहा था. पता चला कि इन्हीं नम्बरों से वह दिल्ली पुलिस के ASI राजबीर सिंह के संपर्क में था. यह भी पता चला कि 14 जुलाई को राजबीर सिंह ने शिकायतकर्ता को बुलाकर इस मामले में बातचीत भी की थी.

देवबंद से जुड़े आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के तार, नेटवर्क की जांच करने दिल्ली पुलिस रवाना

जांच में यह भी साफ हुआ कि गैंगस्टर प्रमोद को शिकायतकर्ता का मोबाइल नम्बर राजबीर ने ही दिया था और यह भी कहा था कि अगर बिल्डर 2 करोड़ रुपये न दे तो बिल्डर के बेटे की कार पर फायरिंग कर दी जाए. पुलिस के मुताबिक, ASI राजबीर सिंह ही इस गैंग का मास्टरमाइंड है. राजबीर सिंह को दिल्ली पुलिस में अच्छे काम के लिए गैलेंट्री मेडल समेत कई सम्मान मिल चुके हैं. पुलिस ने इस मामले में राजबीर समेत पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

Newsbeep

VIDEO: दिल्ली में झपटमारी की बढ़ती घटनाएं, महिला का मंगलसूत्र छीना

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com