NDTV Khabar

CCTV फुटेज में आग लगाते दिखे वकील, महिला IPS के साथ भी की मारपीट, चार दिन से गायब है अधिकारी की लोडेड सर्विस पिस्टल

झड़प के चार दिन बाद भी दिल्ली पुलिस ने अपनी महिला अधिकारी के मामले में कोई शिकायत दर्ज नहीं की है, जिनके साथ तीस हजारी कोर्ट में वकीलों ने मारपीट की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में शनिवार को जब वकील और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसा हुई, उस दिन वकीलों में वहां वर्दी में मौजूद महिला पुलिस अधिकारी के साथ भी कथित तौर पर मारपीट की. इसी के साथ उसी दिन से उनकी लोडेड बंदूक भी लापता है. एनडीटीवी के पास मौजूद एक सीसीटीवी फुटेज में देखा जा सकता है कि वकीलों की भीड़ से बचने के लिए पुलिसवालों ने खुद को जिस कमरे में बंद कर रखा है, उसके बाहर वकील वाहनों को आग लगाने की कोशिश कर रहे हैं. 

झड़प के चार दिन बाद भी दिल्ली पुलिस ने अपनी महिला अधिकारी के मामले में कोई शिकायत दर्ज नहीं की है, जिनके साथ तीस हजारी कोर्ट में वकीलों ने मारपीट की. भारतीय पुलिस सेवा की महिला अधिकारी ने कथित तौर पर कहा कि उनकी लोडेड 9 एमएम सर्विस पिस्टल शनिवार से गायब है. लेकिन दिल्ली पुलिस ने कथित रूप से इसके लिए भी एफआईआर दर्ज करने से मना कर दिया.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने NDTV को बताया कि महिला अधिकारी ने अपने सहयोगियों से कहा कि औपचारिक शिकायत करने से कोई नतीजा नहीं निकलेगा, इससे वह खुद मूर्ख साबित होंगी. 


तीस हजारी हिंसा मामला: वकीलों ने कोर्ट रखा बंद, दिल्ली पुलिस के जवानों की गिरफ्तारी की रखी मांग, पढ़ें 10 बड़ी बातें

आधिकारिक तौर पर, पुलिस का दावा है कि वे औपचारिक शिकायत के बिना कोई कार्रवाई नहीं कर सकते. लेकिन यौन उत्पीड़न के मामलों में पुलिस को खुद से कार्रवाई करने का अधिकार है.

एक अधिकारी ने बताया, 'पुलिस पर जांच तेज करने और संवेदनशील मुद्दों को दबाने के लिए बहुत दबाव है. इसलिए जिन वरिष्ठ अधिकारियों को इन दोनों घटनाओं के बारे में बताया गया था, वे भी इस पर चुप हैं. वास्तव में, महिला अधिकारी को मामले को आगे न बढ़ाने के संकेत मिले हैं.'

पुलिस-वकील झड़प मामले में आया बार काउंसिल का बयान, कहा- हिंसा की घटनाएं बर्दाश्त नहीं की जाएंगी

शनिवार को एक पुलिसवाले ने तीन वकीलों को गलत जगह पार्क की गई कार को हटाने के लिए कहा था, जिसके बाद विवाद हुआ. इसके बाद हुई हिंसा में 30 लोग जख्मी हो गए.

एनडीटीवी को कई सीसीटीवी कैमरों की फुटेज मिली है, जिनमें पुलिसकर्मियों पर वकील हमला करते हुए और बाइकों को आग लगाने की कोशिश करते हुए दिख रहे हैं. वहीं, पुलिसकर्मी आग पर पानी डालकर उसे बुझाते हुए दिख रहे हैं. वकील चाहते थे कि जिस पुलिस कांस्टेबल ने उनके साथियों को कार पार्क करने से रोका था, वह उन्हें सौंप दिया जाए.

दिल्ली पुलिस के समर्थन मे उतरीं किरण बेदी, कमिश्‍नर को दी ये नसीहत

मौके पर मौजूद एक अधिकारी ने याद करते हुए बताया, 'वे (वकील) इतने गुस्से में थे कि कांस्टेबल को वर्दी बदलकर साधे कपड़े पहनने के लिए कहा गया.' वर्दी बदलने के बाद गुस्साए वकीलों से बचने के लिए अपराधियों के साथ लॉकअप में बैठा दिया गया.

टिप्पणियां

वकील-पुलिस झड़प: 31 साल पुरानी इस घटना को याद कर, पुलिसकर्मी कह रहे हैं ‘हमारा कमिश्नर कैसा हो, किरण बेदी जैसा हो'

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : दिल्ली पुलिस दबाव में है? तीस हज़ारी कोर्ट हिंसा के नए वीडियो से खुलासा



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement