NDTV Khabar

राजधानी बनी कूड़ेदान, 'आप' की झाड़ू भी नहीं कर पाई सफाई

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राजधानी बनी कूड़ेदान, 'आप' की झाड़ू भी नहीं कर पाई सफाई
नई दिल्ली:

राजधानी के इलाके सफाई के लिए निगम के रहमोकरम पर हैं, लेकिन बुधवार से जारी हड़ताल के चलते आज भी पूर्वी दिल्ली के इलाके कूड़े से अटे दिखे। हालांकि आम आदमी पार्टी के विधायकों ने झाड़ू लेकर सफाई के लिए मोर्चा जरूर थामा, पर ये मुहिम फोटो ऑपरचुनिटी ज्यादा दिखी।

कूड़े के अंबार से जूझते दिखे आम आदमी पार्टी के विधायक। करावल नगर के कपिल मिश्रा और घौंडा के श्रीदत्त शर्मा के अलावा पूर्वी और उत्तर पूर्वी दिल्ली के विधायक हाथों में झाड़ू लहराते हुए सफाई मुहिम की शुरुआत तो की, लेकिन कुछ ही देर में जोश ठंडा पड़ा गया और राजनीति गरमाने लगी। कपिल मिश्रा कहते हैं कि बीजेपी अगर निगम नहीं चला पा रही, तो हमें दे दे। हम चलाकर दिखा देंगे।

कर्मचारी इतने नाराज हैं कि एसपी जोन और सिविल लाइन जोन में ट्रक में कचड़ा भरकर लाए और सड़कों पर फैला दिया। इतना ही नहीं जमकर नारेबाजी भी की। कहा कि 'आप' और बीजेपी राजनीति कर रही है। खामियाजा हम भुगत रहे हैं। पहाड़गंज में एमसीडी दफ्तर के बाहर कूड़ा डाला गया। बात इतने से नहीं थमी फिर सिविल लाइन के एमसीडी दफ्तर के बाहर भी कूड़ा डालकर कर्मचारियों ने विरोध जताया। साथ ही कूड़े को एलजी हाउस तक सड़कों पर बिखेर दिया गया।

नाराज़ सफाई कर्मचारियों के निशाने पर हर कोई है। चाहे वो अपनी एमसीडी हो, पीएम मोदी या फिर सीएम केजरीवाल। लोग केजरीवाल का पुतला लहराते रहे और फिर उसका दहन भी हुआ। तीन महीने से तनख्वाह नहीं मिलने से नाराज़ कर्मचारियों ने पहले सड़कों पर कूड़ा फैलाया और फिर हेडक्वार्टर पहुंच प्रदर्शन करने लगे। पूर्वी दिल्ली नगर निगम के सफाई कर्मचारी हरेश बेनीवाल कहते हैं कि बस तीन मांगों को लेकर हम सड़कों पर हैं। सैलरी समय से मिले। मेडिकल के कैशलेस कार्ड की सुविधा हो। एरियर का भुगतान किया जाए।

पूर्वी दिल्ली के इस इलाके में बीते बुधवार से ही सफाई ठप है। कोई कूड़ा उठाने वाला नहीं रहा तो लोग अपनी गाड़ियों से खुद ही कूड़ा लेकर आ रहे हैं। रमेश कुमार प्रीत विहार से राधु पैलेस तक डस्टर गाड़ी से कूड़ा लादे पहुंचे। वह बताते हैं, सात दिनों तक कूड़े वाली गाड़ी कॉलोनी में नहीं आई, तो खुद ही गाड़ी कूड़ा ढोने में लगा दी।

दरअसल ये सारा फसाद फंड और सियासी फंडे का है जिसकी वजह से खस्ताहाल एमसीडी को दिल्ली सरकार मदद के नाम पर एक धेला भी देने को तैयार नहीं। उधर लोग इस बात पर हैरान परेशान हैं कि जिस झाड़ु को दिखाकर आम आदमी पार्टी ने लोगों से वोट बटोरा, पावर में आते ही सफाई की पावर सप्लाई ऑफ कर गई।

टिप्पणियां


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement