दिल्ली हिंसा: ओवैसी का BJP पर हमला, बोले- जुमले मत बोलिए हमसे... गुजरात हुआ, हमारी लाशों पर कोई PM बन गया तो...

दिल्ली हिंसा को लेकर एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) लोकसभा में बुधवार को गृहमंत्री अमित शाह के जवाब संतुष्ट नजर नहीं आए. एनडीटीवी से बातचीत में उन्होंने कहा कि जिन मुसलमानों की जान गई, उनके परिवारों को इन्साफ नहीं मिलेगा.

नई दिल्ली:

दिल्ली हिंसा को लेकर एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) लोकसभा में बुधवार को गृहमंत्री अमित शाह के जवाब संतुष्ट नजर नहीं आए. एनडीटीवी से बातचीत में उन्होंने कहा कि जिन मुसलमानों की जान गई, उनके परिवारों को इन्साफ नहीं मिलेगा. उन्होंने कहा, ''मैं इस जवाब से बिल्कुल सहमत नहीं हूं और मुझे पूरा यकीन है कि मोदी सरकार दंगाईयों को बचाएगी और खासकर वो जो मुसलमानों की जानें गई हैं, उनके परिवारों को कोई भी इंसाफ नहीं मिलने वाला है.'' ओवैसी ने NDTV से कहा, ''वो लड़का, जो वीडियो में तड़प रहा था, जिसे जन-गण-मन पढ़ाया जा रहा था. वो फैजान जिसकी मौत हो गई, जिसकी मां को कभी इंसाफ नहीं मिलेगा, क्योंकि उसकी मां पुकार-पुकार कर कह रही थी कि जब मेरे बेटे की लाश घर आई तो उसके सिर से खून बह रहा था, उसके जिस्म में गोली थी और उसका जबड़ा टूटा हुआ था.''

Yes बैंक संकट के बाद इन तीन बैंकों को लेकर उड़ी अफवाह तो ग्राहकों से बोले- घबराने की जरूरत नहीं

गृहमंत्री द्वारा लोकसभा में कहा गया कि वैज्ञानिक तरीके से जांच करा रहे हैं और किसी भी दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा, चाहे वह किसी भी मजहब का हो. इस पर ओवैसी ने जवाब में कहा, ''देखिए हम दूध के जले हैं और छाछ फूंक-फूंक पीते हैं. नेली नरसंहार हुआ, हमारी लाशों पर महल बन गया. गुजरात हुआ हमारी लाशों पर कोई प्रधानमंत्री बन गया कोई बड़ा नेता बन गया, ये जुमले मत बोलिए हमसे.''

दिल्ली हिंसा में लोगों को हिरासत में लिए जाने को लेकर अगला सवाल पूछे जाने पर ओवैसी ने कहा, ''अगर मैं गलत कह रहा हूं तो 2600 लोगों की नामों की लिस्ट जारी कर दीजिए. क्यों लिस्ट जारी नहीं कर रहे? क्यों छुपा रहे हैं? लिस्ट जारी कीजिए. हम भी जानना चाहते हैं और हम भी इंसाफ चाहते हैं. क्या ये बात सच नहीं है कि 500 से 1000 के करीब मुसलमानों के घर जला दिए गये. क्या ये बात सच नहीं है कि 19 मस्जिदों को जला दिया गया. मरने वाले ज्यादा मुसलमान हैं. यकीनन अंकित समेत कई हिंदु भाई हमारे मारे गए हैं.''

एमपी का सियासी घमासान: कांग्रेस छोड़ने वाले एक नेता का दावा- सिंधिया के इस्तीफे के बाद 2 दिन में हुए 10 हजार इस्तीफे

उन्होंने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा, ''अमित शाह क्या यह साबित करना चाहते हैं कि मुसलमान आक्रामक हैं. यह शुरू से होता आया है, इंसाफ कहा मिलेगा. रहा सवाल वारिस पठान का तो वारिस पठान के खिलाफ एफआईआर हुआ. अनुराग ठाकुर के लिए एफआईआर हुआ? कपिल मिश्रा डीसीपी के साथ खड़े रहकर धमकी देता है क्या एफआईआर हुआ? बताइए वो वर्मा (प्रवेश वर्मा) कहता है कि शाहीन बाग से निकलकर रेप करेंगे क्या उसके ऊपर एफआईआर हुआ? क्यों नहीं हुआ? इसलिए नहीं हुआ क्योंकि उसका ताल्लुक बीजेपी से है और बीजेपी बचा रही है.''

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com