NDTV Khabar

देश के 15-20 'क्रोनी कैपिटलिस्ट' की मदद के लिए की गई नोटबंदी : राहुल गांधी

राहुल गांधी ने सीधे पीएम मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा कि नोटबंदी सबसे बड़ा घोटाला है, आम आदमी से लिया गया धन सांठगांठ वाले पूंजीवादियों को दिया गया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
देश के 15-20 'क्रोनी कैपिटलिस्ट' की मदद के लिए की गई नोटबंदी : राहुल गांधी

प्रेस कॉन्‍फ्रेंस को संबोधित करते कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी

नई दिल्‍ली: नोटबंदी पर भारतीय रिजर्व बैंक रिपोर्ट पर कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्‍फ्रेंस की. राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा. कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा कि 'नोटबंदी पूरी तरह विफल रही. नोटबंदी का रिजल्‍ट क्‍या आया कि पूरा का पूरा पैसा वापस आ गया. 2 फीसदी जीडीपी, करोड़ों लोगों का रोजगार और नोटबंदी का कोई रिजल्‍ट नहीं आया. सबसे पहले प्रधानमंत्री जी को देश को जवाब देना होगा कि जब बेरोजगारी जैसे मुद्दे बरकरार हैं, हमारे युवा रोजगार चाहते हैं तो आपने देश पर इतनी बड़ी चोट क्‍यों दी, कारण क्‍या थे, रिजननिंग क्‍या थी.'

राहुल गांधी ने कहा कि माफी वहां मिलती है जहां गलती हो. पीएम मोदी ने तो गलती नहीं की. उन्‍होंने जानबूझकर यह काम किया. अपने 15-20 पूंजीपति दोस्‍तों को मदद करने के लिए ये काम किया. राफेल मामले पर भी राहुल गांधी ने सवाल दागे. राहुल ने पीएम मोदी और फ्रांस सरकार के संयुक्‍त घोषणा पत्र की प्रति को दिखाते हुए कहा कि राफेल सौदे में पुराने कंफिग्रेशन को ही नये दाम में लिया गया.

राहुल गांधी जिस राफेल सौदे को लेकर मोदी सरकार पर उठाते रहते हैं सवाल, जानिये इस सौदे से जुड़ी हर बात

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि नोटबंदी ने पूरी अर्थव्‍यवस्‍था को ध्‍वस्‍त करके रख दिया. भारतीय रिजर्व बैंक ने जो आंकड़ा जारी किया है उसके अनुसार 99.3 फीसदी नोट वापस बैंक में आ गए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी की घोषणा करते हुए कहा था कि इससे आतंकवाद पर लगाम लगेगी, कालाधन समाप्‍त हो जाएगा, जाली नोट खत्‍म हो जाएंगे लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ. राहुल गांधी ने कहा कि इसका असली मकसद था देश के 15 से 20 बड़े उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाना. उनके काले धन को सफेद करना.

कांग्रेस कोर ग्रुप की राहुल गांधी को सलाह: RSS का न्योता न कबूल करें, वह जहर है, न चखें

प्रधानमंत्री ने देश के युवाओं, छोटे रोजगार देने वालों को यह वादा किया था कि नोटबंदी से काला धन समाप्‍त हो जाएगा, आतंकवाद का खात्‍मा हो जाएगा लेकिन इससे 2 फीसदी जीडीपी नीचे चला गया. करोड़ों बेरोजगार हो गए. देश की अर्थव्‍यवस्‍था नष्‍ट हो गई. राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस को देश चलाना आता है और हमने चलाकर दिखाया है. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के समय का रिकॉर्ड उठाकर देख लिजिए आपको सब पता चल जाएगा. उन्‍होंने कहा कि पीएम मोदी का नोटबंदी के पीछे का मूल कारण था देश के सबसे बड़े 15-20 बड़े लोगों के काले धन को सफेद करना. उन्‍होंने आपकी जेब से पैसा निकालकर उनकी जेब में डाल दिया. गुजरात के एक कॉपरेटिव बैंक में जिसके डायरेक्‍टर अमित शाह हैं उनके यहां 700 करोड़ कालेधन को सफेद किया गया. राहुल गांधी ने कहा, ''उन्‍होंने सही कहा था कि जो 70 साल में नहीं हुआ उन्‍होंने किया. एक झटके में उन्‍होंने पूरी अर्थ व्‍यवस्‍था को ध्‍वस्‍त कर दिया.''

राफेल पर राहुल गांधी ने कहा कि मैंने अरुण जेटली के माध्‍यम से पीएम मोदी से सवाल पूछा है कि जेपीसी में इस मामले पर सभी दलों के सामने बात हो. इससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा. राहुल ने तंज कसते हुए कहा कि शायद अरुण जेटली जी डर गए होंगे और यह बात पीएम मोदी को नहीं बताई होगी. राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने सभी को 15 लाख रुपये देने का वादा किया था लेकिन ऐसा नहीं हुआ. अब हमने उनको सिरियसली लेना बंद कर दिया है. अब उनकी गलती को पकड़कर लोगों के सामने लाते हैं.

टिप्पणियां
VIDEO: नोटबंदी कोई गलती नहीं, बल्कि यह देश के लोगों पर हमला था : राहुल गांधी

प्रेस कांफ्रेंस में राहुल गांधी के साथ कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता रणदीप सुरजेवाला भी थे. राहुल गांधी ने अपनी प्रेस कांफ्रेंस से पहले पत्रकारों से हल्‍के अंदाज में पूछा भी कि आपलोग तो दबाव में नहीं हैं? मूड ठीक तो है न? तकरीबन 18 मिनट प्रेस कांफ्रेंस चली और इस दौरान राहुल गांधी ने सिर्फ नोटबंदी और राफेल पर अपनी बात रखी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement