NDTV Khabar

महाराष्ट्र के मंत्री की बेटी पढ़ने गईं इंग्लैंड, देवेंद्र फडणवीस सरकार उठा रही खर्च!

रात में बताया कि देवेंद्र फडणवीस ने इस पर संज्ञान लेते हुए भाजपा से संबंधित इस मंत्री से स्पष्टीकरण मांगा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाराष्ट्र के मंत्री की बेटी पढ़ने गईं इंग्लैंड, देवेंद्र फडणवीस सरकार उठा रही खर्च!

देवेंद्र फडणवीस सरकार के कद्दावर नेता पर गंभीर आरोप.

खास बातें

  1. महाराष्ट्र सरकार में मंत्री हैं राजकुमार बडोले
  2. छात्रवृत्ति पाने वाले लाभार्थियों की सूची में मंत्री की बेटी का नाम
  3. देवेंद्र फडणवीस सरकार के कद्दावर नेता पर गंभीर आरोप.
मुंबई:

देश भर में लाखों युवा संसाधनों की कमी और खराब आर्थिक हालत के चलते पढ़ाई छोड़ देते हैं. वहीं महाराष्ट्र सरकार में मंत्री राजकुमार बडोले अपनी बेटी को सरकारी खर्चे पर इंग्लैंड में पढ़ाई करवा रहे हैं. यह आरोप लगने के साथ ही सोशल मीडिया से लेकर चाय दुकान तक पर चर्चा है कि आखिर जनता के टैक्स के पैसों को मंत्री के बच्चों पर क्यों खर्च किया जाए. इतना ही नहीं राज्य के दो उच्चस्तरीय नौकरशाहों के बेटों के नाम भी हाल में जारी सूची में शामिल हैं. सूत्रों ने रात में बताया कि देवेंद्र फडणवीस ने इस पर संज्ञान लेते हुए भाजपा से संबंधित इस मंत्री से स्पष्टीकरण मांगा है. राज्य का सामाजिक न्याय एवं विशेष सहायता विभाग हर साल अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए विदेशी शिक्षा छात्रवृत्ति की घोषणा करता है. इस सहायता में इकानोमी श्रेणी से विमान का एक तरफा किराया, शिक्षण शुल्क, भत्ते आदि शामिल हैं.

ये भी पढ़ें : रामदास अठावले ने बनाई पार्टी की बाल शाखा, नाबालिग बेटे के हाथों में दी कमान


हालांकि सामाजिक न्याय मंत्रालय का नेतृत्व कर रहे भाजपा नेता बडोले ने इस मामले से पल्ला झाड़ते हुए कहा कि इसमें उनकी कोई भूमिका नहीं है.

ये भी पढ़ें : नीतीश कुमार और पीएम नरेंद्र मोदी की दोस्ती के बीच इस दल ने झटका NDA का हाथ

उनकी बेटी श्रुति ब्रिटेन के मैनचेस्टर विश्वविद्यालय से 'एस्ट्रोनामी एंड एस्ट्रोफिजिक्स' में तीन साल की पीएचडी कर रही हैं.

यह सूची चार सितंबर को एक सरकारी आदेश (जीआर) में उच्चतर एवं तकनीकी शिक्षा मंत्रालय द्वारा प्रकाशित की गई.

ये भी पढ़ें : मुंबई से सटे ठाणे में पुलिस कर्मियों की गुंडागर्दी होटल के सीसीटीवी में कैद

छात्रवृत्ति के लिए चयनित 35 छात्रों में राज्य सरकार के वरिष्ठ नौकरशाहों के बेटे समीर दयानंद मेशराम और अंतरिक्ष दिनेश वाघमारे शामिल हैं.

टिप्पणियां

VIDEO: कर्ज माफी पर अपने ही सवाल में उलझी कांग्रेस

इस बीच, मंत्री ने संवाददाताओं से कहा कि उनकी बेटी को छात्रवृत्ति मिलने में उनकी कोई भूमिका नहीं है. उन्होंने कहा, 'यह सच है कि मेरी बेटी ने आवेदन किया था और वह छात्रवृत्ति के लिए चयनित हुई है. हालांकि, मैंने इसमें कोई भूमिका नहीं निभाई. मैं चयन समिति तक में शामिल नहीं था.'

इनपुट: भाषा



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement