NDTV Khabar

दिग्विजय सिंह ने योगी आदित्यनाथ को निशाना बनाया और खुद शिकार हो गए!

दिग्विजय सिंह को फोटो ट्वीट करके योगी को शर्मिंदा करने की कोशिश महंगी पड़ी, आंध्र प्रदेश की एम्बुलेंसों की तस्वीर ट्वीट करके आरोप लगाया कि यह वाहन उत्तर प्रदेश में बेकार खड़े

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दिग्विजय सिंह ने योगी आदित्यनाथ को निशाना बनाया और खुद शिकार हो गए!

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह को यह फोटो ट्वीट करने के बाद निंदा का सामना करना पड़ा.

खास बातें

  1. आंध्र प्रदेश की एम्बुलेंसों की ट्वीट की गई तस्वीर को बताया यूपी की
  2. ट्विटर के यूजर्स ने गलती पकड़ी और दिग्विजय को कहा "धाराप्रवाह झूठा"
  3. पिछले महीने दिग्विजय ने अपरिपक्वता से प्रधानमंत्री मोदी पर हमला किया था
नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश की एम्बुलेंसों की तस्वीरों को ट्वीट करके वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आफत मोल ले ली. उनको सोशल मीडिया पर आलोचना झेलनी पड़ रही है. उन्होंने आरोप लगाया था कि इन वाहनों का उत्तर प्रदेश में उपयोग नहीं किया जा रहा है. कांग्रेस नेता ने अपनी पोस्ट में कहा, "योगी जी, आपने उत्तर प्रदेश के साथ यह क्या किया?''

अखिलेश यादव की सरकार के कार्यकाल के दौरान 102, 108 एम्बुलेंस शुरू की गई थीं जिनका उपयोग बीमारों को लाने-ले जाने में हो रहा है. ट्वीटर पर रजत यादव के मूल ट्वीट को दिग्विजय सिंह ने शायद कॉपी किया था. ट्विटर यूजर्स ने गलती पकड़ने में जरा भी देरी नहीं की और बताया कि एम्बुलेंस पर लिखे शब्द तेलुगु भाषा में हैं. दिग्विजय को इस बात के लिए जमकर ट्रोल किया गया कि उन्होंने बिना किसी सत्यापन के फोटो साझा किया और योगी को निशाना बनाया.

यह भी पढ़ें : दिग्विजय सिंह का बड़ा बयान: नीतीश सत्ता के बिना नहीं रह सकते, चुनाव से पहले वह फिर पलटी मार सकते हैं

एक यूजर ने ट्वीट किया 'उत्तर प्रदेश में तेलुगू बोली जाती है दिग्गी.' एक अन्य यूजर ने दिग्विजय को लगातार झूठ बोलने वाला कहा.
 
दिग्विजय सिंह को ट्विटर पर गलत फोटो साझा करने पर पहले भी ट्रोल किया गया था. पिछले महीने दिग्विजय सिंह द्वारा एक ऐसे मिम्स को ट्वीट करने की निंदा की गई थी जिसमें उन्होंने अपरिपरक्वता के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला किया था. इस पोस्ट को लेकर निंदा होने पर सिंह ने सफाई दी थी कि, "मैंने स्पष्ट रूप से यह कहा है कि (मिम) मेरा नहीं है, मैंने इसे अस्वीकार कर दिया है." उन्होंने ट्विटर पर सवाल उठाते हुए कहा था कि "जब मोदी जी के फॉलोअर्स ने सोनिया जी, राजीवजी, इंदिरा जी, नेहरू जी, गांधी जी के खिलाफ अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया, तो वे चुप क्यों रहे?"

टिप्पणियां
VIDEO : कांग्रेस को माया मिली न राम

इससे पहले जून में दिग्विजय ने पाकिस्तान के मेट्रो पिलर की पुरानी फोटो को ट्वीट किया था. उन्होंने दावा किया था कि यह भोपाल का एक रेलवे पुल होगा. बाद में उन्होंने इसके लिए माफी मांगी थी. तथ्यों को जांचने वाली वेबसाइट AltNews ने दिग्विजय के दावे को खारिज कर दिया था और उनकी गलती बता दी थी. सिंह ने इस पर वेबसाइट पर जवाब दिया, "माफ़ी चाहता हूं. मेरे एक दोस्त ने मुझे यह भेजी. मेरी गलती है कि मैंने जांच नहीं की."


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement