NDTV Khabar

अमित शाह के 'हिंदी' वाले बयान पर बोले रजनीकांत, कहा- हिंदी न थोपें, पूरे भारत में...

जाने माने अभिनेता रजनीकांत ने बुधवार को कहा कि पूरे भारत में एक ही भाषा की संकल्पना संभव नहीं है और हिंदी को थोपे जाने की हर कोशिश का केवल दक्षिणी राज्य ही नहीं, बल्कि उत्तर भारत में भी कई लोग विरोध करेंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमित शाह के 'हिंदी' वाले बयान पर बोले रजनीकांत, कहा- हिंदी न थोपें, पूरे भारत में...

गृहमंत्री अमित शाह और फिल्म एक्टर रजनीकांत (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. अमित शाह के 'हिंदी' वाले बयान पर भड़के रजनीकांत
  2. 'पूरे भारत में एक ही भाषा की संकल्पना संभव नहीं'
  3. रजनीकांत ने कहा कि हिंदी को थोपा नहीं जाना चाहिए
चेन्नई:

जाने माने अभिनेता रजनीकांत ने बुधवार को कहा कि पूरे भारत में एक ही भाषा की संकल्पना संभव नहीं है और हिंदी को थोपे जाने की हर कोशिश का केवल दक्षिणी राज्य ही नहीं, बल्कि उत्तर भारत में भी कई लोग विरोध करेंगे. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हिंदी को पूरे भारत की आम भाषा बनाने की हाल में वकालत की थी जिसकी पृष्ठभूमि में रजनीकांत ने यह बयान दिया. रजनीकांत ने कहा कि हिंदी को थोपा नहीं जाना चाहिए क्योंकि पूरे देश में एक ही भाषा की संकल्पना ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण'' रूप से लागू नहीं की जा सकती.

वायुसेना की बढ़ी ताकत, चीन से सटी सीमा के पास एक और एयरबेस हुआ ऑपरेशनल 

उन्होंने यहां हवाईअड्डे पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘केवल भारत ही नहीं, बल्कि किसी भी देश के लिए एक आम भाषा होना उसकी एकता एवं प्रगति के लिए अच्छा होता है. दुर्भाग्यवश, हमारे देश में एक आम भाषा नहीं हो सकती, इसलिए आप कोई भाषा थोप नहीं सकते.''


टिप्पणियां

अयोध्या केस: 18 अक्टूबर तक सुनवाई पूरी होने की सुप्रीम कोर्ट को उम्‍मीद, पढ़ें 10 खास बातें

उन्होंने कहा, ‘‘विशेष रूप से, यदि आप हिंदी थोपते हैं, तो तमिलनाडु ही नहीं, बल्कि कोई भी दक्षिणी राज्य इसे स्वीकार नहीं करेगा. उत्तर भारत में भी कई राज्य यह स्वीकार नहीं करेंगे.''



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement