मार थोमा चर्च प्रमुख के निधन पर PM मोदी ने दी श्रद्धांजलि, बोले- दलितों के मसीहा थे डॉ. जोसेफ

पीएम ने अपने शोक संदेश में लिखा है, "डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपॉलिटन एक धनी और उल्लेखनीय व्यक्तित्व थे जिन्होंने ताउम्र मानवता की सेवा की और गरीबों और दलितों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए कड़ी मेहनत की.

मार थोमा चर्च प्रमुख के निधन पर PM मोदी ने दी श्रद्धांजलि, बोले- दलितों के मसीहा थे डॉ. जोसेफ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपॉलिटन के निधन पर शोक जताया है.

पथानामथिट्टा (केरल):

केरल के पथानामथिट्टा के मशहूर मार थोमा चर्च के प्रमुख डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपॉलिटन का रविवार (18 अक्टूबर) को तड़के निधन हो गया. वह 90 वर्ष के थे. उन्होंने उम्र से संबंधित बीमारी के कारण एक स्थानीय प्राइवेट अस्पताल में तड़के सुबह करीब 2.30 बजे अंतिम सांस ली. उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गहरा दुख व्यक्त किया है.

पीएम ने अपने शोक संदेश में लिखा है, "डॉ. जोसेफ मार थोमा मेट्रोपॉलिटन एक धनी और उल्लेखनीय व्यक्तित्व थे जिन्होंने ताउम्र मानवता की सेवा की और गरीबों और दलितों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए कड़ी मेहनत की. उनके प्रति लोगों के मन में खूब सहानुभूति, विनम्रता और श्रद्धा का भाव था. उनके नेक आदर्शों को हमेशा याद किया जाएगा. विनम्र श्रद्धांजलि.."

पीएम मोदी ने एक और ट्वीट में लिखा है कि कुछ महीनों पहले उन्हें उनके 90वें जन्मदिन समारोह पर संबोधन का मौका मिला था. पीएम ने उसकी एक वीडियो क्लिप भी साझा की है. प्रधानमंत्री ने तब डॉ. जोसेफ को लंबे जीवन और सर्वश्रेष्ठ स्वास्थ्य की बधाई देते हुए उनके सव्वास्थ्य की कामना की थी. पीएम ने कहा था कि डॉ. जोसेफ मार थोमा ने हमारे समाज और राष्ट्र की बेहतरी के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया. वह विशेष रूप से गरीबी हटाने और महिला सशक्तीकरण को लेकर उत्साही रहे.

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


डॉ. जोसेफ मार थॉमस को साल 1999 में मताधिकार के साथ मेट्रोपोलिटन के रूप में नामित किया गया था. इसके बाद साल 2007 में मेट्रोपॉलिटन के रूप में उनका राज्याभिषेक किया गया था. उन्होंने 13 साल तक मार थोमा चर्च के प्रमुख के रूप में जिम्मेदारी संभाली. वह मारामॉम कव्वेंशन के चीफ कॉर्डिनेटर भी थे. उनका जन्म 27 जून, 1931 को हुआ था. उनका असली नाम पी टी जोसेफ था. 1957 में उन्होंने एक पादरी के रूप में चर्च ज्वाइन किया था. उनकी सेवा को देखते हुए 1975 में उन्हें जोसेफ मार आइरेनियस की उपाधि दी गई थी.