डॉ रेड्डीज को कोविड-19 के टीके के दूसरे-तीसरे चरण का मानव परीक्षण करने की मंजूरी मिली

"यह एक महत्वपूर्ण खबर है, जो हमें भारत में नैदानिक परीक्षण शुरू करने की अनुमति देता है. हम महामारी से निपटने के लिये एक सुरक्षित और प्रभावी टीका लाने को प्रतिबद्ध हैं."

डॉ रेड्डीज को कोविड-19 के टीके के दूसरे-तीसरे चरण का मानव परीक्षण करने की मंजूरी मिली

प्रतीकात्मक तस्वीर

हैदराबाद:

डॉ रेड्डीज लेबोरेटरीज लिमिटेड को कोविड-19 के रूस में बने टीके स्पूतनिक वी का भारत में दूसरे व तीसरे चरण का मानव परीक्षण करने की मंजूरी मिल गयी है. कंपनी ने एक बयान में इसकी जानकारी दी. कंपनी ने बताया कि उसे और रसियन डाइरेक्ट इवेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) को भारतीय औषधि महा नियंत्रक (डीजीसीआई) से यह मंजूरी प्राप्त हुई है. कंपनी ने कहा कि यह एक नियंत्रित अध्ययन होगा, जिसे कई केंद्रों पर किया जायेगा.

इससे पहले सितंबर 2020 में डॉ.रेड्डीज़ और आरडीआईएफ ने स्पुतनिक वी वैक्सीन के परीक्षण और भारत में इसके वितरण के लिये साझेदारी की थी.

यह भी पढ़ें-  दिल्ली में कोविड-19 के 3428 नए मामले सामने आए, 22 लोगों की मौत

साझेदारी के तहत आरडीआईएफ भारत में विनियामक अनुमोदन पर डॉ.रेड्डीज को वैक्सीन की 10 करोड़ खुराक की आपूर्ति करेगा.

यह भी पढ़ें- देश में कोरोना के मामले 74 लाख के पार, 8 लाख से कम हुए एक्टिव केस

कंपनी के सह चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक जीवी प्रसाद ने कहा, "यह एक महत्वपूर्ण खबर है, जो हमें भारत में नैदानिक परीक्षण शुरू करने की अनुमति देता है. हम महामारी से निपटने के लिये एक सुरक्षित और प्रभावी टीका लाने को प्रतिबद्ध हैं."

यह भी पढ़ें- PM मोदी बोले- कोरोना के काल में भी कुपोषण के खिलाफ अहम जंग लड़ रहा भारत

आरडीआईएफ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) किरिल दमित्रिएव ने कहा, "हम भारतीय नियामको के साथ सहयोग कर प्रसन्न हैं. हम भारत में होने वाले परीक्षण के साथ ही रूस में तीसरे चरण के परीक्षण के डेटा को साझा करेंगे. इससे स्पूतनिक वी के क्लिनिकल विकास में मदद मिलेगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

रवीश कुमार का प्राइम टाइम: कोरोना को लेकर लापरवाही क्यों?



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)