NDTV Khabar

नशे में धुत्त कपिल शर्मा हवाई यात्रा कर सकते हैं, हमारे सांसद पर बैन क्योंः लोकसभा में शिवसेना

9 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
नशे में धुत्त कपिल शर्मा हवाई यात्रा कर सकते हैं, हमारे सांसद पर बैन क्योंः लोकसभा में शिवसेना

शिवसेना सांसद रविंद्र गायकवाड़ की यात्रा पर सभी एयरलाइनों ने बैन लगा दिया है.

नई दिल्ली: शिवसेना के सांसद रविन्द्र गायकवाड़ द्वारा एयर इंडिया के अधिकारी के साथ दुर्व्यवहार के बाद सभी एयरलाइंस द्वारा उनकी यात्रा पर प्रतिबंध लगाए जाने का मुद्दा सोमवार को संसद में उठाया गया. गायकवाड़ का बचाव करते हुए शिवसेना सांसद आनंद राव अड़सूल ने कपिल शर्मा का जिक्र करते हुए कहा कि नशे में धुत्त कपिल शर्मा हवाई यात्रा कर सकते हैं, उनके मामले में केवल जांच की जा रही है कोई पाबंदी नहीं लगाई गई है. उन्होंने सरकार से मांग की कि इस मामले में गंभीरता से जांच की जाए.

यात्रा पर सभी एयरलाइंस द्वारा प्रतिबंध लगाने और  अधिकारी के साथ कथित र्दुव्‍यवहार को लेकर सभी एयरलाइंस द्वारा उन पर प्रतिबंध लगाए जाने के मामले में नागर विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू ने आज लोकसभा में कहा कि उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था कि एक सांसद ऐसे मामले में घिरेंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि एयरलाइंस की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं किया जा सकता. गजपति राजू ने साथ ही कहा कि डीजीसीए (नागर विमानन महानिदेशालय) के नियम एयरलाइंस की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता पर रखते हैं और किसी भी प्रकार की हिंसा एयरलाइंस के लिए भीषण आपदा हो सकती है. उन्होंने कहा कि डीजीसीए को यह अधिकार प्राप्त है कि वह किसी भी यात्री का व्यवहार नियमानुरूप नहीं होने पर उसे विमान यात्रा करने से रोक सकती है.

गजपति राजू ने कहा, ‘‘एक सांसद भी एक यात्री है और किसी भी यात्री से अलग श्रेणी के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाता है.’’ उन्होंने कहा कि एयरलाइंस ने जो कदम उठाया वह सुरक्षा के मद्देनजर उठाया गया और एयरलाइंस की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं किया जा सकता. हालांकि शिवसेना सांसद आनंद राव अड़सूल मंत्री के इस जवाब से संतुष्ट नहीं हुए और अन्य सदस्यों के साथ आसन के सामने आ गए. जब अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि वे गलत बात का समर्थन कर रहे हैं और मंत्री उनके सवाल को जवाब दे चुके हैं.
 
अध्यक्ष ने अड़सूल और अन्य शिवसेना सांसदों को विमानन मंत्री से बात कर मामला सुलझाने की बात कही तो सभी सांसद अपने अपने स्थान पर चले गए और अड़सूल विमानन मंत्री से बात करने लगे. कुछ देर बाद शिवसेना के सभी सांसद सदन से उठकर चले गए, हालांकि उन्होंने वॉकआउट की घोषणा नहीं की.

इससे पहले शून्यकाल में आनंद राव अड़सूल ने यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि गायकवाड़ के साथ बिजनेस क्लास में कोई विवाद हुआ और एयरलाइंस के अधिकारी ने उनके साथ बदतमीजी की. उन्होंने कहा, ‘‘मैं मानता हूं कि अधिकारी को मारना गलती थी. इसमें एफआईआर भी दर्ज हुई है. उस पर हमें कोई आपत्ति नहीं है. आपत्ति इस बात पर है कि सभी एयरलाइंस ने उनके विमान से यात्रा करने पर प्रतिबंध लगा दिया है.’’ अड़सूल ने कहा कि यह प्रतिबंध संविधान के तहत हर नागरिक को प्रदत्त देश में कहीं भी आने जाने के अधिकार का उल्लंघन है. उन्होंने कहा कि सदन में मौजूद सभी सांसद इस बात से सहमत होंगे कि पाबंदी लगाना सही नहीं है.

उनका कहना था कि संसद का सत्र चालू है और सांसद महत्वपूर्ण मुद्दों को उठाने के लिए सदन में नहीं आ पा रहे हैं. उनके यह उम्मीद जताने पर कि सभी सदस्य उनकी बात का समर्थन करेंगे , भाजपा के कई सदस्यों ने मेजें थपथपा कर उनका समर्थन किया लेकिन कांग्रेस के कुछ सदस्यों से उनकी कहासुनी हो गयी जिन्होंने उनकी बात का विरोध किया.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement