Earthquake : हरियाणा के झज्जर और जम्मू-कश्मीर में भूकंप के तेज झटके, अभी तक कोई हताहत नहीं

जम्मू-कश्मीर और हरियाणा के झज्जर में भूकंप के झटके महसूस हुए हैं.

Earthquake : हरियाणा के झज्जर और जम्मू-कश्मीर में भूकंप के तेज झटके, अभी तक कोई हताहत नहीं

Earthquake : भूकंप के झटके

नई दिल्ली:

जम्मू-कश्मीर और हरियाणा के कई इलाके तड़के सुबह भूकंप (Earthquake) के तेज झटके से सहम उठा. जम्मू-कश्मीर और हरियाणा के झज्जर में भूकंप के झटके महसूस हुए हैं. दरअसल, जम्मू-कश्मीर में सुबह 5.15 बजे भूकंप के झटके महसूस हुए, जिसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.6 की तीव्रता मापी गई. वहीं, हरियाणा के झज्जर में सुबह 5.43 बजे भूकंप के झटके महसूस हुए, जिसकी तीव्रता 3.1 मापी गई. 

बताया जा रहा है कि भूकंप के झटके से लोग सहम उठे और अपने घरों से निकल गये. हालांकि, अभी तक इन झटकों से किसी के हताहत होने की खबर नहीं आई है. 


वहीं, 10 सितंबर यानी रविवार को उत्तर प्रदेश के मेरठ और दिल्ली सहित समूचे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र(एनसीआर) में भूकंप के झटके महसूस किए गए. ये झटके सुबह छह बजकर 28 मिनट पर आए थे. अमेरिका के जियोलॉजिकल सर्वे ने भी इसकी पुष्टि की थी. हालांकि, उसमें भी किसी के हताहत होने की खबर नहीं थी.
Newsbeep

इससे पहले रविवार( नौ सितंबर) को शाम चार बजकर 37 मिनट पर हरियाणा के झज्जर जिले में झटके महसूस किए गए थे, जिसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.8 आंकी गई थी.  दिल्ली भूकंप के लिहाज से बेहद संवेदनशील माना जाता है. कई बार एनसीआर में झटके लग चुके हैं, मगर भूकंप से बचाव के लिए सरकारी स्तर से न जनजागरूकता अभियान धरातल पर दिख रहे हैं और न आपदा प्रबंधन से अन्य जानकारियां.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


भूकंप आए तो बरतें सावधानीः भूकंप आने के बाद बरती गईं सावधानियां आपकी जान बचा सकतीं हैं. यदि आप घर से बाहर हैं तो ऊंची इमारतों, बिजली के खंभों आदि से दूर रहें. जब तक झटके खत्म न हों, बाहर ही रहें. चलती गाड़ी में होने पर जल्द गाड़ी रोक लें और गाड़ी में ही बैठे रहें. ऐसे पुल या सड़क पर जाने से बचें, जिन्हें भूकंप से नुकसान पहुंचा हो. भूकंप आने के वक्त यदि आप घर में हैं तो फर्श पर बैठ जाएं. मज़बूत टेबल या किसी फर्नीचर के नीचे पनाह लें. टेबल न होने पर हाथ से चेहरे और सिर को ढक लें. घर के किसी कोने में चले जाएं और कांच, खिड़कियों, दरवाज़ों और दीवारों से दूर रहें. बिस्तर पर हैं तो लेटे रहें, तकिये से सिर ढक लें. आसपास भारी फर्नीचर हो तो उससे दूर रहें.