NDTV Khabar

केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के सामने अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की चुनौती

केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने तीन महीने बाद फिर से वित्त मंत्रालय संभाला, किडनी ट्रांसप्लांट होने के कारण अवकाश पर रहे

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के सामने अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की चुनौती

अरुण जेटली ने तीन माह के अंतराल के बाद वित्त मंत्रालय का कामकाज संभाल लिया.

खास बातें

  1. स्वास्थ्य को लेकर जेटली को कुछ दिन बरतनी होगी एहतियात
  2. देश की अर्थव्यवस्था कई तरह की चुनौतियों से जूझ रही
  3. कांग्रेस ने कहा- रुपया कमज़ोर हो रहा, चुनौतियों का मुकाबला करना होगा
नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को 3 महीने बाद फिर से वित्त मंत्रालय संभाल लिया है. किडनी ट्रांसप्लांट की वजह से वे कामकाज से अलग रहे थे.

हालांकि 13 हफ्ते बाद वित्त मंत्रालय संभाल रहे अरुण जेटली फिलहाल कुछ दिन एहतियात बरतेंगे. वे फिलहाल ग्रुप में लोगों से नहीं मिल सकेंगे और अगर किसी को इनफेक्शन है तो उसको भी उनसे मिलने की इजाज़त नहीं होगी. जेटली ने ऐसे वक्त पर कार्यभार संभाला है जब अर्थव्यवस्था कई तरह की चुनौतियों से जूझ रही है. रुपया लगातार कमज़ोर पड़ रहा है, व्यापार घाटा बढ़ा है. यानी निर्यात कम, आयात ज़्यादा और वित्तीय घाटा भी बढ़ा हुआ है.

यह भी पढ़ें : डॉलर के मुकाबले रुपया 70 हुआ: अरुण जेटली ने कहा, पर्याप्त विदेशी मुद्रा भंडार

चुनौती रोज़गार को लेकर भी है. इसी हफ्ते सितंबर 2017 से मई, 2018 के बीच पीएफ के नए subscribers की संख्या अनुमानित क़रीब 44 लाख से घटाकर 39.2 लाख कर दी है. नीति आयोग की एक्सपर्ट कमेटी ऑन लैंड के चेयरमैन, टी हक ने एनडीटीवी से कहा कि ये डाउनवार्ड रिवीज़न ज़रूरी था. क्योंकि इससे जो नए सब्सक्राइबर्स के बारे में जो डाटा है, वो अब सही हो गया है.

टिप्पणियां
VIDEO : काम पर लौटे अरुण जेटली

कांग्रेस अब तक ये सवाल उठाती रही थी कि असली वित्त मंत्री कौन है, अरुण जेटली या पीयूष गोयल? लेकिन गुरुवार को कांग्रेस ने कहा, जेटली को अर्थव्यवस्था की चुनौतियों का मुकाबला करना होगा. कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने कहा,  "जेटली जी ने 3 महीने के बाद चार्ज लिया है, ऐसे समय पर जब अर्थव्यवस्था के सामने चुनौतियां हैं. रुपया कमज़ोर हो रहा है. उन्हें इन आर्थिक चुनौतियों का मुकाबला करना होगा." साफ है, अपनी सेहत के साथ-साथ जेटली को देश की आर्थिक सेहत का खयाल भी रखना है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement