आर्थिक रुझानों ने फैसलों में आम सहमति नहीं होने के मिथक को दूर कर दिया : सरकारी सूत्र

सूत्रों ने कहा कि ये सभी धनराशि और सहायता सीधे लाभ हस्तांतरण (Direct Benefit Transfer) के माध्यम से बैंक खातों में और लोगों के हाथों में चली गई है, बिना किसी बिचौलिए और किसी देरी के.

आर्थिक रुझानों ने फैसलों में आम सहमति नहीं होने के मिथक को दूर कर दिया : सरकारी सूत्र

नई दिल्ली:

आर्थिक सुधार के रुझानों से पता चलता है कि केंद्र कोरोनो वायरस संकट के प्रभाव को कम करने के लिए सभी संभव उपाय कर रहा है, ऐसा वित्त मंत्रालय के सूत्रों ने कहा. मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था सरकार के पास राजकोषीय प्रोत्साहन और पैकेजों को आगे बढ़ाते हुए उच्चतम स्तरों पर सर्वसम्मति का अभाव है.

सरकार के सूत्रों ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि सरकार द्वारा तेजी से उठाए गए कदम और आर्थिक सुधार के हालिया रुझानों में माल और सेवा कर (जीएसटी) संग्रह में वृद्धि, बेहतर पीएमआई (क्रय प्रबंधक सूचकांक) और निर्यात ने तंग मुट्ठी और आम सहमति की कमी के मिथक को दूर किया है. 

"सरकार कोरोना वायरस महामारी के प्रभावों से अवगत है और यही कारण है कि वित्त मंत्रालय लगातार और लगातार उन लोगों को सहायता प्रदान करने के लिए उपाय कर रहा है जिन्हें समग्र रूप से इसकी सबसे अधिक आवश्यकता है और वे उपाय परिणाम देने वाले हैं, "सूत्रों ने बताया. 

यह भी पढ़ें- IMF ने कहा- PM मोदी की ‘आत्मनिर्भर भारत' अहम पहल, बताई यह वजह 

"कोरोना वायरस की चुनौतियों के खिलाफ सरकार के व्यापक उपायों के रिपोर्ट कार्ड को पढ़ते हुए, जिस तेजी के साथ सरकार ने दो प्रमुख प्रोत्साहन पैकेजों को तैयार और कार्यान्वित किया, उनकी सराहना होनी चाहिए, एक प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज (पीएमजीकेपी) 26 मार्च को लॉन्च किया और दूसरा आत्मनिर्भर भारत पैकेज जो कि 12 मई को लॉन्च किया गया. 20 लाख करोड़ का एक विशेष और व्यापक पैकेज जो कि भारत के सकल घरेलू उत्पाद के 10 प्रतिशत के बराबर है.”सूत्र ने बताया. 

सूत्रों ने कहा कि ये सभी धनराशि और सहायता सीधे लाभ हस्तांतरण (Direct Benefit Transfer) के माध्यम से बैंक खातों में और लोगों के हाथों में चली गई है, बिना किसी बिचौलिए और किसी देरी के.

यह भी पढ़ें- अमेरिका चुनाव : H-1B वीजा धारकों पर नजर, कार्यबल प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए 1100 करोड़ की घोषणा

“फिर भी, आलोचकों का कहना है कि सरकार ने लोगों के हाथों में नकदी डालकर पर्याप्त मांग पक्ष उपाय नहीं किए हैं. क्या यह संकट के समय लोगों के हाथों में नकदी नहीं है? यदि यह नहीं है, तो यह क्या है? यहां तक कि बिल गेट्स ने हाल ही में जिस तरह से भारत ने अपने डीबीटी वितरण तंत्र का उपयोग किया और इस संकट के समय लोगों तक सीधे पहुंचने में मदद करने के लिए सराहना की " सूत्र ने कहा.

भारत ने पिछले 24 घंटों में 81,484 नए कोरोनोवायरस मामले सामने आए. शुक्रवार को कुल आंकड़ा 64 लाख के निशान के पास था और 1,095 मौतों की सूचना इसी अवधि में दी गई थी. देश में अब 63,94,068 मामले हैं. इसमें से 9.4 लाख एक्टिव मामले हैं. 

Newsbeep

एक अप्रैल से अब तक 5 लाख करोड़ का निवेश: सेबी चेय़रमैन अजय त्यागी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com