Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

भारत कठिन दौर से गुजर रहा है, नीचे बनी रहेगी आर्थिक वृद्धि दर: अर्थशास्त्री अजय शाह

पूर्व में सेंटर फॉर मानिटरिंग इंडियन एकोनॉमी (CMIE) से जुड़े रहे शाह ने कहा, ‘अगर हम समाज के लोग और राजनीतिक वर्ग एक-दूसरे के साथ मिल-बैठकर चर्चा करें तो इसका समाधान मिलेगा.’

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत कठिन दौर से गुजर रहा है, नीचे बनी रहेगी आर्थिक वृद्धि दर: अर्थशास्त्री अजय शाह

प्रतीकात्मक तस्वीर

खास बातें

  1. अर्थशास्त्री अजय शाह ने कहा कि भारत कठिन दौर से गुजर रहा है
  2. ऐसे समय में सकल घरेलू उत्पाद वृद्धि दर नीचे ही बनी रहेगी
  3. कहा- इसका कोई त्वरित समाधान नहीं है
कोलकाता:

भारत कठिन दौर से गुजर रहा है और सकल घरेलू उत्पाद (GDP) वृद्धि दर अभी नीचे बनी रहेगी. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनेंस एंड पॉलिसी (NIPFP) के प्राफेसर अजय शाह ने यह कहा है. उन्होंने कहा कि इसका कोई त्वरित समाधान नहीं है. हां, अगर समाज के लोग तथा राजनीतिक वर्ग एक-दूसरे के साथ मिल-बैठकर शांति के साथ चर्चा करें तभी इसका समाधान होगा. शाह ने कहा, ‘हम इस समय कठिन दौर से गुजर रहे हैं और इसका कोई त्वरित समाधान नहीं है. देश की GDP वृद्धि दर नीचे बनी रहेगी.' उन्होंने कहा, ‘भारत में अभी राजनीतिक गहमा-गहमी है. नागरिकों के अधिकार और शक्तियों का अर्थव्यवस्था पर बड़ा प्रभाव होता है.'

पूर्व में सेंटर फॉर मानिटरिंग इंडियन एकोनॉमी (CMIE) से जुड़े रहे शाह ने कहा, ‘अगर हम समाज के लोग और राजनीतिक वर्ग एक-दूसरे के साथ मिल-बैठकर चर्चा करें तो इसका समाधान मिलेगा.' उन्होंने 1991 से 2011 की अवधि को भारतीय इतिहास का स्वर्णिम काल बताया और कहा कि उस दौरान जो आर्थिक वृद्धि हुई, उससे 35 करोड़ लोग गरीबी रेखा से बाहर हुए. शाह ने अपनी पुस्तक ‘इन सर्च ऑफ द रिपब्लिक' पर चर्चा के दौरान कहा, ‘उसके बाद निजी निवेश में कमी के साथ समस्या शुरू हुई.' 

IMF के वृद्धि दर को लेकर जारी अनुमान के बाद गिरा भारतीय बाजार, सेंसेक्स में 205.10 अंकों की गिरावट


बता दें उन्होंने अपनी किताब को उन्होंने विजय केलकर के साथ मिलकर लिखा है. उन्होंने कहा कि सकल निजी पूंजी निर्माण में 10 प्रतिशत की कमी आई है. इसे पूरा करना देश की राजकोषीय क्षमता से बाहर है. शाह ने देश में दिवाला एवं ऋण शोधन अक्षमता संहिता (IBC) लागू करने के तरीके की भी आलोचना की. उन्होंने कहा, ‘सरकार को IBC लागू करने में कुछ समय लेना चाहिए. पहले जरूरी बुनियादी ढांचा सृजित करने की आवश्यकता थी.' इस संहिता के लागू होने के कारण बड़ी संख्या में मामले फंसे हैं.

टिप्पणियां

भारतीय GDP में गिरावट का असर पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है: गीता गोपीनाथ



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... मनोज तिवारी का हमला- 'ताहिर हुसैन ने काफी पहले कर ली थी दिल्ली के दंगों के लिए तैयारी'

Advertisement