NDTV Khabar

मनी लॉन्ड्रिंग: लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा के खिलाफ ED ने दायर किया दूसरा आरोप-पत्र

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मनी लॉन्ड्रिंग (पीएमएलए) के मामले में दिल्ली की एक अदालत में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती के खिलाफ दूसरा आरोपपत्र दायर किया है. इस मामले में ईडी एक आरोप-पत्र पहले ही मीसा भारती के खिलाफ दाखिल की चुका है. अदालत दोनों आरोप-पत्रों पर पांच फरवरी को विचार करेगी.

115 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मनी लॉन्ड्रिंग: लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा के खिलाफ ED ने दायर किया दूसरा आरोप-पत्र

लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा के खिलाफ ED ने दायर किया दूसरा आरोप-पत्र (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. 23 दिसंबर को दाखिल आरोप-पत्र में मीसा के साथ उनके पति शैलेश भी आरोपी
  2. अदालत दोनों आरोप-पत्रों पर पांच फरवरी को विचार करेगी
  3. प्रवर्तन निदेशालय ने 20 मार्च को जैन बंधुओं को गिरफ्तार किया था.
नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मनी लॉन्ड्रिंग (पीएमएलए) के मामले में दिल्ली की एक अदालत में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती के खिलाफ दूसरा आरोपपत्र दायर किया है. इस मामले में ईडी एक आरोप-पत्र पहले ही मीसा भारती के खिलाफ दाखिल की चुका है. अदालत दोनों आरोप-पत्रों पर पांच फरवरी को विचार करेगी. 

मनी लॉन्ड्रिंग केस : मीसा भारती का बिजवासन वाला फार्म हाउस ईडी ने किया अटैच, जानें पूरा मामला

आपको बता दें कि 23 दिसंबर को अदालत में दाखिल आरोप पत्र ईडी ने मीसा के अलावा उनके पति शैलेश कुमार और अन्य को आरोपी बनाया था. ये पांच हजार करोड़ रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग का मामला था जिसमें व्यवसायी गगन धवन के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया गया था. 

ईडी ने जुलाई में इस मामले के संबंध में भारती के चार्टर्ड अकाउंटेंट राजेश अग्रवाल के खिलाफ पूरक आरोप-पत्र दायर किया था, जिसमें कुछ कारोबारियों समेत कारोबारी बंधु सुरेंद्र जैन और वीरेंद्र जैन सहित लगभग 35 लोग आरोपित थे. इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने 20 मार्च को जैन बंधुओं को गिरफ्तार किया था. इस मामले में ईडी ने मई में पहला आरोप-पत्र दायर किया था, जिसके बाद 22 मई को अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया गया.

लालू यादव और परिवार का विवादों से रहा है पुराना नाता, जानें ऐसे ही कुछ विवाद

अग्रवाल पर भारती के पति की कंपनी, मिशैल पैकर्स एंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड की गलत तरीके से मदद के भी आरोप हैं. इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने भारती से पूछताछ की थी और दिल्ली में उनके तथा पति से संबंधित तीन ठिकानों पर छापे मारे थे. ईडी ने कहा कि उसने गंभीर धोखाधड़ी जांच कार्यालय (एसएफआईओ) द्वारा यहां तीस हजारी अदालत में आपराधिक शिकायत दायर कराने के बाद इस मामले में एक प्राथमिकी दर्ज की है.

ईडी के आरोप-पत्र के अनुसार, जैन बंधुओं का काम नकदी को ठिकाने लगाने, लेनदेन के तरीके तलाशने और अंत में शोधित धन को एक जगह जुटाकर उसे बैंकिंग व्यवस्था में वैध शेयर प्रीमियम लेनेदेन के रूप में दिखाकर काले धन को सफेद करना था. आरोप-पत्र में कहा गया है कि नकदी धनराशि लाभार्थियों की ओर से मध्यस्थों द्वारा लाई गई. आरोप-पत्र में कहा गया है, "जैन बंधुओं ने इस प्रक्रिया के तहत काले धन को शेयर प्रीमियम में बदल कर कुछ प्रतिशत आमदनी कमाए."

चारा घोटाले में फैसला आज: लालू ने कम सजा के लिए कोर्ट में उम्र और बीमारी की दी दुहाई, 15 बातें

आरोप-पत्र के अनुसार, "जांच के दौरान यह पता चला कि 2007-2009 के दौरान मिशैल पैकर्स और प्रिंटर के 1,20,000 शेयरों को शिलिनी होल्डिंग्स लिमिटेड, एड-फिन कैपिटल सर्विसिस (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड, मनी माला, दिल्ली प्रॉपर्टी प्राइवेट लिमिटेड और डायमंड विनीम प्राइवेट लिमिटेड जैसी चार फर्जी कंपनियों द्वारा 100 रुपये प्रति शेयर पर खरीदा गया."

आरोप-पत्र में कहा गया था कि शालिनी होल्डिंग्स, एड-फिन और मनी माला कंपनियों को जैन बंधुओं द्वारा प्रबंधित और नियंत्रित किया जाता था, जबकि डायमंड विनिमी संतोष कुमार शाह द्वारा प्रबंधित किया जाता था. आरोप-पत्र में कहा गया है कि 1,20,000 शेयरों को बाद में भारती ने साल 2009 में प्रति शेयर 12 रुपये की दर से खरीद लिया था.

VIDEO: मनी लॉन्ड्रिंग केस में मीसा भारती के खिलाफ चार्जशीट

आरोप-पत्र के अनुसार, "भारती द्वारा शेयर लिए जाने तक मिशैल पैकर्स और प्रिंटर, 25, तुगलक रोड, नई दिल्ली में पंजीकृत था. वर्ष 2009-10 के दौरान पता बदलकर फार्म नंबर 26 पालम फार्म, वीपीओ बिजवासन, नई दिल्ली कर दिया गया। संबंधित अवधि के दौरान भारती और उनके पति कंपनी के निदेशक थे." (इनपुट एजेंसी से)

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement