बैंक धोखाधड़ी: ईडी ने दवा कंपनी की 4,700 करोड़ की संपत्तियां जब्त की 

ईडी के अनुसार स्टर्लिंग समूह द्वारा किए गए कथित सीमापार लेनदेन की जांच की जा रही है.

बैंक धोखाधड़ी: ईडी ने दवा कंपनी की 4,700 करोड़ की संपत्तियां जब्त की 

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 5,000 करोड़ रुपये के बैंक धोखाधड़ी और धनशोधन मामले में गुजरात की दवा कंपनी की 4,701 करोड़ रुपये की संपत्तियां कुर्क की है. ईडी ने जिस कंपनी की संपत्ति जब्त की है वह‘ स्टर्लिंग बायोटेक ग्रुप ’की है. गौरतलब है कि ईडी ने इस कंपनी के खिलाफ पिछले अक्टूबर को ही मामला दर्ज किया था. खास बात यह है कि नीरव मोदी - मेहुल चोकसी बैंक धोखाधड़ी मामले के बाद राशि के हिसाब से यह इस साल की यह सबसे बड़ी कुर्की है. अधिकारियों ने बताया कि जांच एजेंसी ने धनशोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत अस्थाई कुर्की का आदेश जारी किया था.

यह भी पढ़ें: एयरसेल-मैक्सिस केस: पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी पर कोर्ट ने अगली सुनवाई तक लगाई रोक

और इसके तहत वडोदरा स्थित समूह की करीब 4,000 एकड़ में फैली अचल संपत्ति , संयंत्र , मशीनरी , विभिन्न कंपनियों एवं प्रवर्तकों से संबद्ध करीब 200 बैंक खाते , 6.67 करोड़ रुपये की कीमत के शेयर और कई कीमती कारें जब्त की. ईडी के अनुसार स्टर्लिंग समूह द्वारा किए गए कथित सीमापार लेनदेन की जांच की जा रही है. ईडी विदेशों में कई तेल रिग्स , बार्जेस और नाइजीरिया में तेल क्षेत्र की कुर्की के लिए कदम उठाने की तैयारी कर रहा है. समूह ने इन संपत्तियों में निवेश किया है. इसके अलावा ईडी समूह के विदेशों में बैंक खातों को कुर्क करने की भी तैयारी कर रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें: ईडी ने डाबर इंडिया के निदेशक की 21 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की

एजेंसी ने कहा कि उसने जुहू , मुंबई में संदेसारा हाउस , महाराष्ट्र के जालना जिले के अंबाड़ में एक फार्म हाउस , वडोदरा के अटलदारा में कंपनी का एक कार्यालय और तमिलनाडु के ऊटी में एक कारखाना भी कुर्क किया है. इससे पहले इसी साल ईडी ने पीएमएलए के तहत हीरा कारोबारी नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी की 7,600 करोड़ रुपये की संपत्तियां कुर्क की थीं. (इनपुट भाषा से)