राज्यसभा के 8 निलंबित सांसदों ने संसद के लॉन में पूरी रात किया विरोध, उप-सभापति की चाय पीने से इनकार

तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह, कांग्रेस के राजीव साटव और सीपीएम के के.के. रगेश समेत निलंबित सांसद राज्यसभा से निकलने के बाद संसद के लॉन में प्रदर्शन पर बैठ गए.

नई दिल्ली:

कृषि विधेयक (Farm Bills) पर रविवार को बहस के दौरान राज्यसभा (Rajya Sabha) में हंगामा करने वाले आठ विपक्षी सांसदों को निलंबित कर दिया गया है. निलंबन के विरोध में सोमवार को निलंबित सांसदों ने संसद परिसर में गांधी प्रतिमा के पास रातभर प्रदर्शन किया. राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश (Harivansh) प्रदर्शन कर रहे निलंबित सांसदों के लिए मंगलवार को सुबह चाय लेकर पहुंचे. निलंबित सांसदों ने उप-सभापति की चाय पीने से इनकार कर दिया.

सोमवार को तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह, कांग्रेस के राजीव साटव और सीपीएम के के.के. रगेश समेत निलंबित सांसद राज्यसभा से निकलने के बाद संसद के लॉन में प्रदर्शन पर बैठ गए. उनके पास तख्तियां थी, जिसमें लिखा था- "हम किसानों के लिए लड़ेंगे" और "संसद की हत्या".

READ ALSO: राज्यसभा से निलंबन का रिकॉर्ड राजनारायण के नाम, दूसरे नंबर पर गोडे मुरहरि

आम आदमी पार्टी (AAP) के सांसद संजय सिंह ने उप सभापति की चाय से इनकार करने के बाद कहा, "हम लोग पूरी रात यहां धरने पर बैठे रहे हैं, देश के करोड़ों किसानों को न्याय दिलाने के लिए, देश के किसानों के खिलाफ जो काला कानून इस संसद में पास किया गया है उसके खिलाफ. आज सुबह यहां उप सभापति आए थे, हमने उनसे भी कहा कि उस दिन नियम-कानून को ताक पर रखकर किसान विरोधी बिल को पास कराया गया. बीजेपी के पास बहुमत नहीं था, हम वोटिंग कराने की मांग करते रहे, लेकिन आपने वोटिंग नहीं कराई. यहां हम किसानों के लिए बैठे हैं. किसानों के साथ धोखा हुआ है."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें कि उप सभापति के साथ बुरा बर्ताव और राज्यसभा में हंगामा करने की वजह से सदन के सभापति वेंकैया नायडू ने विपक्षी दलों के आठ सांसदों को सोमवार को एक हफ्ते के लिए निलंबित कर दिया है. सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी दलों ने कड़ी प्रतिक्रिया जताई है. 

वीडियो: निलंबित सांसदों का संसद परिसर में रात को भी धरना