दो कमरों का घर.. दो बल्ब और दो पंखों का बिल 75 करोड़ रुपये?

यह मामला कोरबा जिले के भैसमा गांव का है, जहां की रहने वाली सरिता यादव मेहनत-मजदूरी करके अपना जीवन यापन करती है. उसके एक छोटे से मकान में दो पंखे चलते हैं और दो बल्ब जलते हैं.

दो कमरों का घर.. दो बल्ब और दो पंखों का बिल 75 करोड़ रुपये?

प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

कोरबा:

दो कमरों का घर.. दो बल्ब और दो पंखों का बिल 75 करोड़ रुपये? कभी कोई सोच भी नहीं सकता कि ऐसा भी हो सकता है! ये कारनामा किया है कोरबा के बिजली विभाग ने. यहां मजदूरी करने वाली एक महिला सरिता यादव के घर पूरे 75 करोड़ रुपये का बिल भेज दिया गया है. बिजली बिल देखते ही महिला के होश उड़ गए. मजदूरी कर जीने वाली सरिता सोच में पड़ गई कि इतनी बड़ी रकम का भुगतान वह इस जनम में तो नहीं कर पाएगी. संववाददाता ने जब इसकी शिकायत छत्तीसगढ़ स्टेट पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक के पीए कुरियन फिलिप से की, तो उन्होंने कहा, "ऐसा गलती से हो गया है. आप मुझे बीपी नंबर दिलवा दीजिए मैं अभी इसको दुरुस्त करवा देता हूं." पीए साहब इस बिल को तो सुधार लेंगे, मगर बिल देखकर यदि किसी का दिल बैठ गया और जान चली गई तो! कई जगह ऐसी घटना हो चुकी है.

यह मामला कोरबा जिले के भैसमा गांव का है, जहां की रहने वाली सरिता यादव मेहनत-मजदूरी करके अपना जीवन यापन करती है. उसके एक छोटे से मकान में दो पंखे चलते हैं और दो बल्ब जलते हैं. मगर सरिता को एक महीने का बिजली बिल 75,00,00,000 रुपये का मिला तो वह सदमे में आ गई, गश खाकर गिर पड़ी. सरिता ने इस मामले की शिकायत विद्युत विभाग से की है और बिजली बिल दुरुस्त करने की मांग भी की है.

मजदूर के यहां 75 करोड़ रुपये का बिल आने से आसपास के लोग भी हैरत में हैं और बिजली बिल बनाने की व्यवस्था पर सवाल उठा रहे हैं. सरिता को मिले बिल में लिखी भारी-भरकम रकम को विद्युत विभाग 'गलती से मिस्टेक' मान रहा है. एक विभागीय अधिकारी ने कहा, "टाइप करने में मिस्टेक हो गया होगा..इसे प्रिंटिंग मिस्टेक माना जाएगा. बिल जल्द ही दुरुस्त करा कर दिया जाएगा और महिला से उतना ही पैसा लिया जाएगा, जो मीटर बताएगा."

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com