NDTV Khabar

प्रोविडेंट फंड का पोर्टल हैक, 2.7 करोड़ लोगों का डेटा चोरी

ईपीएफओ की वेबसाइट से 2.7 करोड़ लोगों के पर्सनल और प्रोफेशनल डेटा चोरी होने का मामला सामने आया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
प्रोविडेंट फंड का पोर्टल हैक, 2.7 करोड़ लोगों का डेटा चोरी

प्रतीकात्मक तस्वीर.

खास बातें

  1. 2.7 करोड़ लोगों की जानकारी लीक
  2. वेतन संबंधी जानकारी भी लीक
  3. नाम, पता व दूसरी जानकारी लीक
नई दिल्ली: ईपीएफओ की वेबसाइट से 2.7 करोड़ लोगों के पर्सनल और प्रोफेशनल डेटा चोरी होने का मामला सामने आया है. कहा जा रहा है कि ईपीएफओ की वेबसाइट पर रजिस्टर्ड तकरीबन 2.7 करोड़ लोगों की जानकारी लीक हो गई है. इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय को लिखे गए एक खत के मुताबिक हैकर्स ने EPFO के आधार सीडिंग पोर्टल से डेटा चुराया है.

यह भी पढ़ें : अगर आपकी कंपनी ने आपका PF खाते में नहीं कराया जमा, तब EPFO उठाएगा यह कदम

खत में सेंट्रल प्रोविडेंट फंड कमिश्नर ने इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय को लिखा है कि सेंट्रल इंटेलिजेंस ब्यूरो से उन्हें जानकारी मिली है कि हैकर्स वेबसाइट की खामियों का फायदा उठा रहे हैं. साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ आनंद वेंकटनारायण ने बताया कि, 'नाम, पता, नौकरी का ब्योरा और चूंकि हर शख्स अपने वेतन का 12% पीएफ में कटवाता है तो वेतन की जानकारी भी चोरी हुई है. यही नहीं बैंक के खातों के नंबर भी चोरी संभव है, क्योंकि लोग अपना पीएफ निकलवाते भी हैं.
 
epf


मार्च महीने में इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय की तरफ से लोकसभा में दिए जानकारी के अनुसार अप्रैल 2017 से लेकर जनवरी 2018 के बीच कुल 114 सरकारी वेबसाइट हैक की गईं. गौरतलब है कि 6 अप्रैल को रक्षा, गृह और कानून मंत्रालय वगैरह की वेबसाइटों को हैक करने की खबरें आईं, लेकिन सरकार ने उनको हार्डवेयर की समस्या बताकर खारिज कर दिया था.

यह भी पढ़ें : इन बैंकों में मिल रहा FD पर शानदार ब्याज, 9.25% तक भी है दर, जानिए Top 10 बैंक

'सेक्यूजीनियस साइबर सुरक्षा फर्म' के सीईओ क्षितिज अदलखा ने बताया कि, ' ये लीक इसलिए होते हैं क्योंकि सरकार कोई पहल करने के बजाए हमेशा प्रक्रियात्मक मुद्रा में रहती है. शुरुआत में हम सुरक्षा के बारे में कोई क़दम नहीं उठाते. कोई गड़बड़ी होने के बाद ही कुछ करते हैं. 

यह भी पढ़ें : अब मिस्ड कॉल से जानें PF बैलेंस और उससे जुड़ी पूरी जानकारी, SMS सेवा भी उपलब्ध

वहीं, इन सबके बीच कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने अपने एक ऑनलाइन सामान्य सेवा केंद्र (सीएससी) के जरिये प्रदान की जाने वाली सेवाएं रोक दी है. ईपीएफओ का कहना है कि उसने सीएससी की 'संवेदनशीलता की जांच' लंबित रहने तक इन सेवाओं को रोका है. हालांकि, ईपीएफओ ने सरकार की वेबसाइट से अंशधारकों के डेटा लीक की किसी संभावना को खारिज किया है.  

टिप्पणियां
VIDEO : पीएफ़ पर झुकी सरकार


वहीं, जब NDTV ने Electronics मंत्रालय की कम्प्यूटर इमरजेंसी रेस्पांस टीम से संपर्क करने की कोशिश की तो कोई कामयाबी नहीं मिल सकी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement