पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर बरसीं सोनिया गांधी, कही यह बात...

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों द्वारा लगातार दूसरे दिन कीमतों में बढ़ोतरी करने के बाद राष्ट्रीय राजधानी में पेट्रोल की कीमत बृहस्पतिवार को 84.20 रुपये प्रति लीटर हो गई, जो अब तक का उच्चतम स्तर है.

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर बरसीं सोनिया गांधी, कही यह बात...

सोनिया ने कहा, तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को निरस्त करने की किसानों की मांग भी स्वीकार की जानी चाहिए

खास बातें

  • कहा, पेट्रो उत्‍पादों पर उत्‍पाद कर यूपीए सरकार के बराबर करें
  • इस कदम से देश के लोगों को मिल सकेगी राहत
  • कृषि कानून रद्द करने की किसानों की मांग भी की जाए स्‍वीकार
नई दिल्ली:

Petrol, Diesel Price: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों (Petrol-diesel price) में बढ़ोतरी को लेकर गुरुवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधा. कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि इन दोनों पेट्रोलियम उत्पादों पर उत्पाद शुल्क (Excise duty)को कम करके संप्रग सरकार (UPA government) के समय की दरों के बराबर किया जाए ताकि देश के लोगों को राहत मिल सके.उन्होंने सरकार से एक फिर यह आग्रह किया कि तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को निरस्त करने की किसानों की मांग भी स्वीकार की जानी चाहिए. सोनिया ने एक बयान में कहा, ‘‘ आजाद भारत के इतिहास में पहली बार देश आज एक दोराहे पर खड़ा है. एक ओर देश का अन्नदाता पिछले 44 दिनों से दिल्ली की सीमाओं पर अपनी जायज़ मांगों के समर्थन में डटा हुआ है, वहीं देश की निरंकुश, संवेदनहीन और निष्ठुर भाजपा सरकार ग़रीब किसान व मध्यम वर्ग की कमर तोड़ने में जुटी है.''

दिल्ली में पेट्रोल की कीमतों ने तोड़ा रिकॉर्ड, मुंबई में डीजल 81 रुपये पार

उन्‍होंने यह भी कहा, ‘‘कोरोना की चौतरफ़ा मार से ध्वस्त अर्थव्यवस्था के बीच मोदी सरकार अपना ख़ज़ाना भरने के लिए आपदा को अवसर बनाने में लगी है. आज कच्चे तेल की क़ीमत 50.96 डॉलर प्रति बैरल है यानी मात्र 23.43 रुपये प्रति लीटर. इसके बावजूद डीजल 74.38 रुपये और पेट्रोल 84.20 रुपये प्रति लीटर में बेचा जा रहा है. ये पिछले 73 साल में सबसे अधिक है.''कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया, ‘‘अंतराष्ट्रीय बाज़ार में क़ीमतें कम होने के बावजूद सरकार ने आम उपभोक्ता को इसका लाभ देने की बजाय उत्पाद शुल्क में बेतहाशा बढ़ोतरी करके मुनाफ़ा वसूली के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. पिछले साढ़े छह सालों में मोदी सरकार ने उत्पाद शुल्क बढ़ाकर लगभग 19 लाख करोड़ आम जनता की जेब से वसूले हैं.''

कृषि कानून के खिलाफ किसानों ने निकाली ट्रैक्‍टर रैली, दी यह चेतावनी..

सोनिया के मुताबिक, गैस सिलेंडर के दामों को भी भाजपा सरकार (BJP government) ने बेतहाशा बढ़ा हर घर का बजट बिगाड़ा है.उन्होंने कहा, ‘‘मैं सरकार से मांग करती हूं कि वह पेट्रोल व डीज़ल पर उत्पाद शुल्क की दरें संप्रग सरकार के समान करे और त्रस्त जनता को तत्काल राहत प्रदान करे.''उन्होंने यह भी कहा, ‘‘मैं सरकार से तीनों खेती कानूनों को भी तत्काल रद्द करके किसानों की सभी मांगें पूरी करने का आग्रह करती हूं.''गौरतलब है कि सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों द्वारा लगातार दूसरे दिन कीमतों में बढ़ोतरी करने के बाद राष्ट्रीय राजधानी में पेट्रोल की कीमत बृहस्पतिवार को 84.20 रुपये प्रति लीटर हो गई, जो अब तक का उच्चतम स्तर है. तेल विपणन कंपनियों की मूल्य अधिसूचना के अनुसार, गुरुवार को पेट्रोल की कीमत में 23 पैसे प्रति लीटर और डीजल की कीमत में 26 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई. इस बढ़ोतरी के बाद दिल्ली में अब पेट्रोल की कीमत 84.20 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत 74.38 रुपये हो गई है. मुंबई में पेट्रोल 90.83 रुपये प्रति लीटर और डीजल 81.07 रुपये प्रति लीटर है.


मुंबई में पेट्रोल 90 रुपये के पार

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)