दिल्ली हिंसा पर सख्त टिप्पणी करने वाले जज मुरलीधर को दी गई विदाई, बार एसोसिएशन ने बताया 'कोहिनूर'

गौरतलब है कि जस्टिस मुरलीधर का तबादले का आदेश रातों रात 26 फरवरी को जारी किया गया था. जस्टिस मुरलीधर ने दिल्ली हिंसा के दौरान दिल्ली पुलिस की भूमिका पर सवाल खड़े किए थे.

दिल्ली हिंसा पर सख्त टिप्पणी करने वाले जज मुरलीधर को दी गई विदाई, बार एसोसिएशन ने बताया 'कोहिनूर'

जस्टिस मुरलीधर को दिल्ली हाईकोर्ट से विदाई दी गई, उनकी तबादला पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट कर दिया गया है.

खास बातें

  • दिल्ली हिंसा पर सख्त टिप्पणी की थी जस्टिस मुरलीधर ने
  • पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में किया गया तबादला
  • बार एसोसिएशन ने दी विदाई
नई दिल्ली :

दिल्ली हिंसा पर सख्त टिप्पणी करने वाले दिल्ली हाईकोर्ट के जस्टिस एस मुरलीधर की टिप्पणी के बाद सियासी हलके में हंगामा खड़ा हो गया था. गुरुवार को दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा दिए विदाई समारोह में जस्टिस मुरलीधर को कोहिनूर बताया गया है. दिल्ली हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डीएन पटेल ने विदाई समारोह में कहा, "हम आज एक अहम जज को विदाई दे रहे हैं. जो कि कानून के किसी भी विषय पर चर्चा कर सकता था और किसी भी मामले की व्याख्या कर सकता था." बता दें कि एक सरकारी आदेश के तहत जस्टिस मुरलीधर का तबादला पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट कर दिया गया है.

गौरतलब है कि जस्टिस मुरलीधर का तबादले का आदेश रातों रात 26 फरवरी को जारी किया गया था. जस्टिस मुरलीधर ने दिल्ली हिंसा के दौरान दिल्ली पुलिस की भूमिका पर सवाल खड़े किए थे. उन्होंने कहा था कि दिल्लीा पुलिस ने हिंसा के लिए उकसाने वाले बीजेपी नेताओं पर कार्रवाई क्यों नहीं की. बता दें कि दिल्ली हिंसा में अब तक 48 लोगों ने अपनी जान गंवाई है.  

भड़काऊ भाषण देने पर BJP नेताओं के खिलाफ कार्रवाई न करने पर दिल्ली पुलिस को फटकारने वाले जस्टिस एस मुरलीधर से जुड़ी अहम बातें

जस्टिस मुरलीधर ने ने नफरत भरे बयानों वाली वीडियो सुनवाई को दौरान चलवाई थी. जस्टिस मुरलीधर ने कहा था कि भड़काऊ बयान देने वालों के खिलाफ क्यों एफआईआर दर्ज नहीं की गई. हालांकि, तबादले पर सरकार का कहना है कि जस्टिस मुरलीधर का तबादला एक रुटीन है. इस तबादले की सिफारिश सुप्रीम कोर्ट के जजों द्वारा ही की गई थी. इस पर जस्टिस मुरलीधर की समहमति भी ली गई थी. लेकिन जिस समय पर तबादला किय गया वह सवाल खड़े करता है.

बार एंड बैंच डॉट कॉम के मुताबिक दिल्ली हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के सचिव अभिजात ने कहा, "दिल्ली हाईकोर्ट का कोहिनूर 100 किलोमीटर दूर जा रहा है."  जस्टिस मुरलीधर ने अपने विदाई समारोह में कहा, "जब न्याय को जीत हासिल करनी होती है तो वह जीत हासिल करके रहता है. सत्य के साथ रहिए न्याय अपने आप हो जाएगा."

जस्टिस एस मुरलीधर के तबादले की टाइमिंग पर घिरी मोदी सरकार, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दी सफाई
सोशल मीडिया पर विदाई समारोह की तस्वीरों पर कमेंट करते हुए यूजर्स ने लिखा कि "इस तरह ही एक सच्चे नायक का सम्मान किया जाता है."

Video: दिल्ली हिंसा की सुनवाई करने वाले जस्टिस मुरलीधर का तबादला

 

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com