'किसानों की ट्रैक्टर रैली पर ISI और खालिस्तानी संगठनों की नज़र', खुफिया जानकारी से उड़ी एजेंसियों की नींद

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, खुफिया जानकारी मिली है कि इस रैली में भिंडरवाला के पोस्टर लगाने की साजिश हो रही है. वहीं, पूरी दिल्ली में पावर कट करने के इनपुट भी हैं, जिसके बाद सभी पावर स्टेशनों और सब स्टेशनों की सुरक्षा बढ़ाने के आदेश दिए गए हैं. 

'किसानों की ट्रैक्टर रैली पर ISI और खालिस्तानी संगठनों की नज़र', खुफिया जानकारी से उड़ी एजेंसियों की नींद

किसानों की ट्रैक्टर रैली की सुरक्षा को लेकर बढ़ी चितांएं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • किसान रैली को बदनाम करने की साजिश
  • पुलिस सूत्रों ने दी जानकारी
  • खुफिया एजेंसियां हाई अलर्ट पर
नई दिल्ली:

Farmers' Tractor Rally : कृषि कानूनों के खिलाफ दो महीनों से प्रदर्शन कर रहे किसान गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में किसान ट्रैक्टर रैली निकाल रहे हैं, जिसकी सुरक्षा को लेकर चिंताएं उठ रही हैं, लेकिन रैली को बदनाम करने की साजिश को लेकर मिली खुफिया जानकारी से खुफिया एजेंसियों की नींद उड़ी हुई है. पुलिस सूत्रों से जानकारी मिली है कि किसानों की रैली को बदनाम करने के लिए ISI और खालिस्तानी संगठन बड़ी साजिश रच रहे हैं. 

खुफिया जानकारी मिली है कि इस रैली में भिंडरवाला के पोस्टर लगाने की साजिश हो रही है. वहीं, पूरी दिल्ली में पावर कट करने के इनपुट भी हैं, जिसके बाद सभी पावर स्टेशनों और सब स्टेशनों की सुरक्षा बढ़ाने के आदेश दिए गए हैं. 

ऐसी जानकारियां आने के बाद दिल्ली पुलिस समेत सभी खुफिया एजेंसियां हाई अलर्ट पर हैं. किसान संगठनों को भी अलर्ट रहने के लिए कहा गया है. 

यह भी पढ़ें : गणतंत्र दिवस ट्रैक्टर परेड के लिए अन्नदाताओं ने पुलिस से मांगी लिखित अनुमति, किसान नेताओं के बीच 3 बॉर्डरों पर सहमति

जानकारी है कि खालिस्तानी संगठन सिख फ़ॉर जस्टिस के प्रवक्ता गुरपतवंत सिंह पन्नू ने वीडियो संदेश भेजे हैं, वहीं लगातार भारत में लोगों को फोन भी आ रहे हैं, जिसमें कहा जा रहा है कि ट्रैक्टर पर तिरंगा न लगाएं. बता दें कि गुरूपतवंत सिंह पन्नू के खिलाफ NIA (National Investigation Agency) ने 15 दिसम्बर 2020 को UAPA (Unlawful Activities (Prevention) Act, 1967) के तहत केस दर्ज किया था.


बता दें कि दिल्ली पुलिस ने रविवार को ही दावा किया कि किसानों की रैली में बाधा डालने के लिए पाकिस्तान से 300 से ज्यादा ट्विटर अकाउंट बनाए गए हैं. पुलिस के मुताबिक, 'इस बात की पुख्ता जानकारी मिली है कि पाकिस्तानी आतंकी ट्रैक्टर रैली में गड़बड़ी फैलाने की फिराक में हैं, ऐसे 308 पाकिस्तानी ट्विटर हैंडल भी मिले हैं'. इस बीच किसान संगठनों ने भी शांतिपूर्ण ढंग से ट्रैक्टर रैली निकालने की अपील की है.

ट्रैक्टर रैली के लिए किसान संघ की गाइडलाइन

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com