NDTV Khabar

फारूक अब्दुल्ला के विवादित बोल, कहा- आजाद कश्मीर की बात करना गलत, POK पाकिस्तान का हिस्सा

जम्मू-कश्मीर में विपक्षी नेशनल कांफ्रेंस प्रमुख फारूक अब्दुल्ला ने कश्मीर को लेकर विवादित बयान दिया है.

371 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
फारूक अब्दुल्ला के विवादित बोल, कहा- आजाद कश्मीर की बात करना गलत, POK पाकिस्तान का हिस्सा

फारूक अब्दुल्ला (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला का विवादित बयान.
  2. आजाद कश्मीर की बात करना गलत : फारूक अब्दुल्ला
  3. अब्दुल्ला ने कहा- पीओके पाकिस्तान का हिस्सा है और बना रहेगा.
जम्मू-कश्मीर: जम्मू-कश्मीर में विपक्षी नेशनल कांफ्रेंस प्रमुख फारूक अब्दुल्ला ने कश्मीर को लेकर विवादित बयान दिया है. शनिवार को उन्होंने कहा कि स्वतंत्र कश्मीर की बात करना 'गलत' है, क्योंकि घाटी चारों ओर से भूआबद्ध है और तीन परमाणु शक्तियों - चीन, पाकिस्तान और भारत से घिरी है. अब्दुल्ला ने यह दावा भी किया कि पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर (पीओके) पाकिस्तान का है और यह चीज नहीं बदलेगी, चाहे भारत और पाकिस्तान एक-दूसरे के खिलाफ कितने ही युद्ध क्यों ना लड़ लें. बता दें कि एक दिन पहले ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने एक स्वतंत्र कश्मीर के विचार को खारिज करते हुए कहा था कि यह हकीकत पर आधारित नहीं है.

श्रीनगर से सांसद फारूक अब्दुल्ला ने पार्टी मुख्यालय में एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा कि मैं यह कह रहा हूं कि यहां आजादी (आजाद कश्मीर) जैसा कोई मुद्दा नहीं है. हम चारों ओर से जमीन से घिरे हुए हैं. इसके अलावा, एक ओर चीन है, दूसरी ओर पाकिस्तान है जबकि तीसरी ओर भारत है. आगे उन्होंने कहा कि इन तीनों के पास परमाणु बम हैं. हमारे पास अल्लाह के नाम के अलावा और कुछ नहीं है. 

यह भी पढ़ें - फारूक अब्दुल्ला को राहुल गांधी का करारा जवाब, कहा- कश्मीर इज इंडिया, इंडिया इज कश्मीर

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके अब्दुल्ला ने कहा कि आजादी के बारे में बात करने वाले ये (अलगाववादी) गलत बात कर रहे हैं. स्वायतत्ता की मांग पर उन्होंने कहा कि राज्य ने भारत में शामिल होने का फैसला किया, लेकिन देश ने कश्मीर के अवाम से विश्वासघात किया और उनसे अच्छा सलूक नहीं किया.

अब्दुल्ला ने कहा कि हमें यह समझना चाहिए कि एक फैसला हुआ था (विलय का), लेकिन भारत ने हमसे अच्छा सलूक नहीं किया. भारत ने विश्वासघात किया. उन्होंने उस प्यार को नहीं समझा, जिसमें हमने उनके साथ जाने का विकल्प चुना था. कश्मीर की मौजूदा स्थिति की यही वजह है. आगे उन्होंने कहा कि आतंरिक स्वायतत्ता हमारा अधिकार है. केंद्र को इसे बहाल करना चाहिए. तभी जाकर घाटी में शांति लौटेगी.

यह भी पढ़ें - नेशनल कॉन्फ्रेंस के मुखिया फारूक अब्दुल्ला बोले: चीन-पाकिस्तान हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकते

पीओके को भारत का हिस्सा बताने संबंधी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर के बयान का जिक्र करते हुए अब्दुल्ला ने कश्मीर के तत्कालीन शासक महाराज हरि सिंह और भारत सरकार के बीच विलय पत्र पर हुए हस्ताक्षर की याद दिलाई और कहा कि आपको विलय पत्र याद नहीं है और पाक शासित कश्मीर के दूसरे हिस्से पर दावा करते हैं. आप उन शर्तों को क्यों भूल गए जिन पर हम सहमत हुए थे. अब्दुल्ला ने यह भी दावा किया कि पीओके पाकिस्तान का हिस्सा है और बना रहेगा.

यह भी पढ़ें - फारूक अब्दुल्ला के फॉर्मूले पर महबूबा मुफ्ती बोलीं- हमें जम्मू-कश्मीर को सीरिया नहीं बनाना

उन्होंने कहा कि मैं न सिर्फ भारत के लोगों को, बल्कि दुनिया से भी सीधे शब्दों में कहता हूं कि जम्मू कश्मीर का जो हिस्सा पाकिस्तान के साथ है वह पाकिस्तान का है और जो हिस्सा भारत के साथ है, वह भारत का है. यह नहीं बदलेगा. उन्हें लड़ने दीजिए, जितनी लड़ाइयां लड़ना चाहते हैं. यह नहीं बदलेगा. यह पूछे जाने पर कि कश्मीर के लिए केंद्र के विशेष प्रतिनिधि दिनेश्वर शर्मा क्या सफल रहे हैं तो अब्दुल्ला ने कहा कि सिर्फ शर्मा ही इस बारे में बता सकते हैं. उन्होंने कहा कि मैं सिर्फ इतना कह सकता हूं कि सिर्फ वार्ता से मुद्दे का हल नहीं होगा क्योंकि यह मुद्दा दो देशों के बीच का है. भारत सरकार को पाक सरकार से बात करनी होगी क्योंकि जम्मू-कश्मीर का एक हिस्सा पाकिस्तान के पास है.

VIDEO- फारूक अब्दुल्ला का विवादित बयान
 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement