NDTV Khabar

अयोध्या के दीपोत्सव में फिजी की मिनिस्टर ने गाया- 'मंगल भवन अमंगल हारी...' देखें VIDEO

फिजी की मिनिस्टर वीना कुमार भटनागर ने कार्यक्रम के संबोधन के दौरान 'मंगल भवन अमंगल हारी' मंत्र गाया. मिनिस्टर ने जब सुरीली आवाज में मंत्र गायन शुरु किया तो उनके साथ कार्यक्रम में उपस्थिति भक्तजनों ने भी सुर में सुर मिलाते हुए मंत्र का गायन किया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अयोध्या के दीपोत्सव में फिजी की मिनिस्टर ने गाया- 'मंगल भवन अमंगल हारी...' देखें VIDEO

अयोध्या दीपोत्सव 2019 में मुख्य अतिथि हैं फिजी की मिनिस्टर वीना कुमार भटनागर

खास बातें

  1. फिजी की मिनिस्टर ने गाया मंगल भवन, अमंगल हारी
  2. इस बार के दीपोत्सव को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज हो गया
  3. दीपोत्सव में इस बार 5 लाख 51 हजार दीप जलाकर विश्व रिकार्ड बनाया गया
नई दिल्ली:

राम की नगरी अयोध्या में शनिवार को उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से आयोजित दीपोत्सव में मुख्य अतिथि बनकर आई फिजी की मिनिस्टर वीना कुमार भटनागर ने कार्यक्रम के संबोधन के दौरान 'मंगल भवन अमंगल हारी' मंत्र गाया. मिनिस्टर ने जब सुरीली आवाज में मंत्र गायन शुरु किया तो उनके साथ कार्यक्रम में उपस्थिति भक्तजनों ने भी सुर में सुर मिलाते हुए मंत्र का गायन किया, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. बता दें, अयोध्या में आयोजित हुए इस बार के दीपोत्सव को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज हो गया. दीपोत्सव में इस बार 5 लाख 51 हजार दीप जलाकर विश्व रिकार्ड बनाया गया. राम की पैड़ी के घाटों पर 4 लाख 10 हजार और अन्य 11 चुनिंदा स्थलों पर 1 लाख 51 हजार दीप जलाए गए. 

5 लाख 51 हजार दीयों से जगमग हुआ अयोध्या, गिनीज बुक में रिकॉर्ड दर्ज


इसके साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को रामकथा पार्क में आयोजित भागवान राम के प्रतीकात्मक राजतिलक कार्यक्रम के अवसर पर 226 करोड़ रुपये की कई परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया. उन्होंने कहा, "हमारी सात पवित्र नगरियों में तीन पवित्र नगरी अयोध्या, काशी और मथुरा हमारे उत्तर प्रदेश में हैं. देश और दुनिया में इतना समृद्ध एवं सांस्कृतिक परिवेश किसी के पास नहीं है."

UP के उप चुनाव नतीजे BJP के लिए क्यों हैं खतरे की घंटी? आंकड़ों से समझें पूरी कहानी

मुख्यमंत्री ने कहा, "राम की परंपरा पर हम सबको गौरव की अनुभूति होती है. अयोध्या का नाम आते ही रामराज्य हमारे मन मस्तिष्क में खुद-ब-खुद आ जाता है. रामराज्य शासन की एक ऐसी व्यवस्था है, जिसमें जाति, मत, मजहब, संप्रदाय, क्षेत्र और भाषा के आधार पर किसी के साथ भेदभाव ना हो. विगत पांच वर्षो में शासन की योजनाओं को जिस प्रतिबद्धता के साथ देश के अंदर लागू किया गया है, यह आधुनिक रामराज्य का उदाहरण है." 

टिप्पणियां

Diwali 2019: 27 अक्‍टूबर को है दीवाली, जानिए शुभ मुहूर्त, लक्ष्‍मी पूजन का सही तरीका और आरती

मुख्यमंत्री ने कहा कि दुनिया के हर सनातन धर्मावलंबी के लिए अयोध्या की पहचान उसी रूप में है, जैसे अन्य मतावलंबियों के लिए अपने-अपने पवित्र स्थलों की पहचान है. दीपोत्सव कार्यक्रम अपने पवित्र स्थल और उनकी मर्यादा की रक्षा के लिए किए जा रहे प्रयासों का हिस्सा है. 
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement