यूपी में फिल्म सिटी : उद्धव ठाकरे नाराज, योगी आदित्यनाथ ने कहा- यह पर्स नहीं है जो छीन ले जाएं

उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी की स्थापना को लेकर सियासत तेज, उद्धव ठाकरे ने कहा किसी को जबरन कुछ लेकर जाने नहीं देंगे

यूपी में फिल्म सिटी : उद्धव ठाकरे नाराज, योगी आदित्यनाथ ने कहा- यह पर्स नहीं है जो छीन ले जाएं

फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार के साथ यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ.

मुंबई:

उत्तर प्रदेश (UP) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) मुंबई (Mumbai) दौरे पर हैं जहां पर वे निवेशकों से उत्तर प्रदेश में निवेश करने की अपील कर रहे हैं. उद्योगों के साथ ही उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी (Film City) भी बनाई जाएगी जिसे लेकर राजनीति तेज़ हो गई है. शिवसेना (Shiv Sena) का कहना है कि किसी को भी जबरन कुछ लेकर जाने नहीं दिया जाएगा, जबकि योगी आदित्यनाथ का कहना है कि फिल्म सिटी कोई पर्स नहीं है जिसे छीना जा सके.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को मुंबई में निवेशकों से मुलाकात करके उत्तर प्रदेश में निवेश करने की अपील नज़र आए. योगी आदित्यनाथ के इस दौरे में एक बैठक बॉलीवुड के डेलिगेशन के साथ भी थी ताकि नोएडा में मुंबई में मौजूदा फिल्म सिटी की ही तरह फिल्म सिटी बनाई जाए. शिवसेना को यह बात पसंद नहीं आई. मुंबई से उद्योगों को दूसरी जगह ले जाने पर जहां मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि किसी को कुछ जबरन लेकर जाने नहीं दिया जाएगा तो वहीं संजय राउत ने पूछा कि योगी आदित्यनाथ दूसरे राज्यों के सिनेमा जगत से लोगों से भी मिलेंगे या नहीं?

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि ''महाराष्ट्र मैग्नेटिक राज्य है. उद्योगपतियों में आज भी महाराष्ट्र का आकर्षण कायम है. राज्य का कोई भी उद्योग बाहर नहीं जाएगा, बल्कि अन्य राज्यों के उद्योगपति भी महाराष्ट्र में उद्योग लगाने के लिए आएंगे. राज्य के उद्योग राज्य में ही रहेंगे. आज भी आपसे मिलने कुछ लोग आएंगे और कहेंगे हमारे यहां आ जाओ.. काम्पटीशन होना अच्छी बात है, लेकिन चिल्लाकर, धमकाकर कोई लेकर जाना चाहेगा तो मैं वो होने नहीं दूंगा.''

Newsbeep

योगी आदित्यनाथ से फ़िल्म जगत से मिलने वाले लोगों में बोनी कपूर और सुभाष घई जैसे लोग शामिल थे तो वहीं शिवसेना के बयानों पर प्रतिक्रिया देते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह कोई पर्स नहीं है जिसे छीना जा सके. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ''कोई किसी को लेकर नहीं जाता है. यह कोई पर्स नहीं है जो कोई लेकर जा सकता है. यह खुली प्रतिस्पर्धा है. जो ज़्यादा सुरक्षा दे सके, अच्छा वातावरण दे सके, हर कोई काम कर सके, अच्छा माहौल दे सके.. मुंबई फ़िल्म सिटी मुंबई में काम करेगी, उत्तर प्रदेश में नई फ़िल्म सिटी काम करेगी.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इससे पहले भी इंटरनेशनल फाइनेंस सर्विस सेंटर यानी IFSC को गुजरात के गांधीनगर में शुरू करने को लेकर भी विवाद हुआ था. तब एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा था कि ऐसे कदमों से मुंबई की छवि को नुकसान पहुंचेगा. ऐसे में राज्य सरकार तभी से किसी दूसरे उद्योग को राज्य से बाहर निकलने से बचाती दिख रही है.