NDTV Khabar

जो कहा उस पर कायम, मुकदमे का सामना करने को तैयार : RSS मामले पर राहुल गांधी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जो कहा उस पर कायम, मुकदमे का सामना करने को तैयार : RSS मामले पर राहुल गांधी

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी... (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. राहुल ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि वह ट्रायल फेस करने को तैयार हैं
  2. आरएसएस वाले अपने बयान पर कायम हैं, थे और रहेंगे
  3. कोर्ट ने राहुल को पेशी में छूट देने से इनकार कर दिया
नई दिल्ली: महात्मा गांधी की हत्या में RSS के लोगों का हाथ बताने वाले बयान से जुड़े केस में अब बड़ा यू-टर्न आ गया है. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि वह ट्रायल फेस करने को तैयार हैं. वह मानहानि का मुकदमा लड़ते रहेंगे और उन्होंने कोर्ट से ट्रायल रद्द करने की याचिका वापस ले ली है.

राहुल ने यह भी कहा कि वह आरएसएस वाले अपने बयान पर कायम हैं, थे और रहेंगे. RSS के लोगों ने महात्मा गांधी को गोली मारी, इस बयान पर वह अडिग हैं और वह अपना बयान वापस नहीं लेंगे. कोर्ट ने राहुल को पेशी में छूट देने से इनकार कर दिया है. यानी 16 नवंबर को उन्हें भिवंडी की कोर्ट में पेश होना होगा.

वहीं याचिकाकर्ता का कहना है कि राहुल यह कह दें कि उनका मकसद आरएसएस को दोषी ठहराना नहीं था तो वह केस को वापस लेने को तैयार हैं. शिकायकर्ता राजेश कुंटे की ओर से कोर्ट में कहा गया कि RSS की छवि को पिछले 60 सालों से बिगाड़ने की कोशिश हो रही है. जब भी चुनाव होते हैं या विशेष वर्ग के साथ कुछ होता है तो ऐसे बयान दिए जाते हैं हालांकि कपिल सिब्बल ने कहा कि राजनीतिक बयान कोर्ट में नहीं दिए जाने चाहिए.

गौरतलब है कि महात्मा गांधी की हत्या में RSS के लोगों का हाथ बताने वाले बयान पर राहुल गांधी के खिलाफ आपराधिक मानहानि के मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. राहुल ने ट्रायल रद्द करने की मांग की. पिछली सुनवाई में राहुल गांधी ने पहली बार कोर्ट में कहा था कि उन्होंने RSS संगठन को दोषी नहीं ठहराया था और बॉम्बे हाईकोर्ट में भी यही हलफनामा दाखिल किया था. इसी आधार पर राहुल को आपराधिक मानहानि के मामले में सुप्रीम कोर्ट से राहत मिलने के संकेत मिले थे. कोर्ट ने इशारा किया था कि मुकदमा रद्द हो सकता है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हम मानते हैं कि राहुल गांधी ने कहा था कि उन्होंने महात्मा गांधी की हत्या के लिए RSS संगठन को हत्यारा नहीं कहा था, सिर्फ जुड़े लोगों के लिए कहा था. ऐसे में RSS के लिए मानहानि वाली बात नहीं लगती.

उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की याचिका पर सुनवाई कर रहा है. राहुल गांधी ने अपने खिलाफ महाराष्ट्र की एक निचली अदालत चल रहे आपराधिक मानहानि से जुड़े एक मामले को रद्द करने की मांग की है. इससे पहले वह कोर्ट के माफी मांगने के प्रस्ताव को ठुकरा चुके हैं. राहुल की ओर से दलील दी गई कि उन्होंने जो कहा वह महात्मा गांधी की हत्या के ट्रायल पर आधारित है.

दरअसल, 2014 में महात्मा गांधी की हत्या का आरोप कथित रूप से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर लगाने के संबंध में राहुल के खिलाफ मानहानि का यह मामला दाखिल किया गया था. संघ की भिवंडी इकाई के सचिव राजेश कुंटे ने आरोप लगाया था कि राहुल ने सोनाले में 6 मार्च 2014 को एक चुनावी रैली में कहा था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने गांधी जी की हत्या की. कुंटे ने कहा कि कांग्रेस के नेता ने अपने भाषण के जरिए संघ की प्रतिष्ठा को चोट पहुंचाने की कोशिश की.

पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि नाथूराम गोडसे ने गांधीजी को मारा, RSS के लोगों ने गांधीजी को मारा, इन दोनो बातों में बहुत फर्क है. जब आप किसी व्यक्ति विशेष के बारे में बोलते हैं तो सतर्क रहना चाहिए. आप किसी की सामूहिक निंदा नहीं कर सकते. हम सिर्फ यह जांच कर रहे हैं कि राहुल गांधी ने जो बयान दिए क्या वह मानहानि के दायरे में हैं या नहीं. कोर्ट ने कहा था कि आपको केस में ट्रायल फेस करना चाहिए हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने भिवंडी कोर्ट के मामले की पुलिस से रिपोर्ट मांगने पर भी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा था कि मानहानि के मामलों में पुलिस की कोई भूमिका नहीं होनी चाहिए.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement