NDTV Khabar

लोकसभा का पहला सत्र 6 से 15 जून तक चलने की संभावना, कैबिनेट की बैठक 31 मई को

नरेंद्र मोदी 30 मई को लेंगे प्रधानमंत्री पद की शपथ, सत्रहवीं लोकसभा के पहले सत्र के कार्यक्रम पर मंत्रि परिषद लेगी अंतिम फैसला

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा का पहला सत्र 6 से 15 जून तक चलने की संभावना, कैबिनेट की बैठक 31 मई को

सत्रहवीं लोकसभा का पहला सत्र 6 जून से शुरू होकर 15 जून तक चलने की संभावना है.

खास बातें

  1. राष्ट्रपति छह जून को दोनों सदनों की बैठक को संबोधित करेंगे
  2. पहले ही दिन लोकसभा के अस्थायी स्पीकर की नियुक्ति संभव
  3. अस्थायी स्पीकर नए सांसदों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे
नई दिल्ली:

सत्रहवीं लोकसभा (17th Loksabha) 6 जून से अपना काम शुरू कर देगी. इस दिन लोकसभा का पहला सत्र शुरू होगा. इस सत्र के 15 जून तक चलने की संभावना है. इससे पहले नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) 30 मई को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे और 31 मई को कैबिनेट की पहली बैठक होगी. इसी बैठक में लोकसभा सत्र के कार्यक्रम पर अंतिम निर्णय लिया जाएगा.

सत्रहवीं लोकसभा का पहला सत्र छह जून से शुरू होकर 15 जून तक चलने की संभावना है. सूत्रों ने इस आशय की जानकारी दी है. सूत्रों ने बताया कि 31 मई को होने वाली कैबिनेट की पहली बैठक में सत्र की तारीख पर अंतिम फैसला लिया जाएगा. नरेंद्र मोदी बतौर प्रधानमंत्री 30 मई को दूसरी बार शपथ ग्रहण करेंगे. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद छह जून को संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगे. सत्र के पहले ही दिन लोकसभा अस्थायी स्पीकर की नियुक्ति कर सकती है. सूत्रों ने बताया कि अस्थायी स्पीकर नव निर्वाचित सांसदों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे. स्पीकर का चुनाव 10 जून को होने की संभावना है.

लोकसभा अध्यक्ष की नियुक्ति के बाद दोनों सदनों में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा होगी और इसका जवाब नरेंद्र मोदी देंगे. राष्ट्रपति भवन की विज्ञप्ति के अनुसार, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 30 मई को शाम सात बजे राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री एवं मंत्रि परिषद के अन्य सदस्यों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे.


दिल्ली में शर्मनाक हार पर आत्ममंथन में जुटी कांग्रेस, पराजय के कारणों का पता लगाएगी

गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी भाजपा के ऐसे पहले नेता हैं जिन्हें प्रधानमंत्री के रूप में पांच साल का अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद लगातार दूसरी बार चुना गया है. साथ ही जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी के बाद नरेंद्र मोदी पूर्ण बहुमत के साथ लगातार दूसरी बार सत्ता में पहुंचने वाले तीसरे प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं.

Results 2019 : इस जोड़ी ने विपक्ष की कमजोर कड़ी को पकड़कर बनाई रणनीति, पीएम नरेंद्र मोदी की जीत के 10 कारण

VIDEO : केमिस्ट्री के आगे सारे गणित हुए फेल

टिप्पणियां

(इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement